.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

18 जनवरी 2016

छंद: रेणकी रचना:राजकवि पिंगळशीभाई पाताभाई नरेला...भावनगर

.                                छंद:  रेणकी
    रचना:राजकवि पिंगळशीभाई पाताभाई नरेला...भावनगर
               ( जटपट मन चेत तज खटपट)
                                  दूहो....
    ।।    क्यु अटकत शुभ काजमे, खटपट मत कर ख्याल,
                      कठिन जपट शिर कालकी,   जटपट तज जंजाल.।।
      ज़टपट मन चेत कपट तज खटपट,  काल नफट शीर जपट करे...
       घटघट प्रति रोग, अघट घट घटना,  वटवट ज्ञान विकट वरनं
      तटतट फिर तीर्थ सहत संकट तन,  मिट तन फेर निकट मरनं,
       रटरट मुख राम शमट भवसागर,    तरनी शुभ वट शरट तरे..... जटपट...1
       तनमन धन किसन शरन कर अरपन,   मन रन हन बन मोक्ष बरं,
       छन छन दन जात काल गति धन सम,  अमन चमन मन क्युं अडरं,
दरशन मन मगन भजन कर निशि दिन,  जपतनिरंजन पाय जरे....जटपट..2
   हर हर पर विपत ध्यान धर हरि हर,   डर डर पग भर दुकत डरं.
   कर कर शुभ करम धरम अवसर कर,   नरवर सब पर सम नजरं.
   फर फरना जन्म मरन फेरा फर,           श्रीवर चितधर काज सरे.... जटपट..3
            हक हक ग्रह चह तज बदहक,     बक बक मत कर जक बदनं,
छक छक मत इश्क तकत क्यूं बद तक,   मस्तक फिरत कैफ मदनं,
        अतक मिल दूत मचावत धक बक,  डारत दोजख जिव डरे...जटपट....4
छलबल तज सकल चपल मन चलदल,   पल पल दुःख माया प्रबलं,
    जलबल तन खाख होत निर्बल जन,   कल न परत गति हे अकलं.
      तल तलकि खबर लेत हरि भूतल,   चल सदपंथ जनम सुधरे....    जटपट...5 
द्रग द्रग नही तेज देह जब डग मग,    पग पग मग मग अलग परं.
चगचग मुख दंत बचन जब फगफग,   जम अनुचर लगभग जगरं.
भगवत भज चेत सुभग नर जग भल,   पिंगलसुजस अचलप्रसरे....जटपट..6
                     नरेला परिवार ना जय माताजी 

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads