.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

28 अक्तूबर 2016

धुतारा ज पुजाय छे :- देव गढवी

  *धुतारा ज पुजाय छे*

निर्दोष भावे मजबुर नो हाथ क्यां पकडाई छे
साचा ह्रदय ना मानवी हवे मन मां मुंजाय छे
कली ना युग मां तो हवे धुतारा ज पुजाय छे

अगणीत आपे ऐनुं नाम गणी-गणी लेवाय छे
टेरवे यंत्र बांधी हवे जुवो प्रभु स्मरण थाय छे
कली ना युग मां तो हवे धुतारा ज पुजाय छे

हवे लाचारो ने मदद करवा हाथ क्यां देवाई छे
मंदीरो मां तख्ती लगाडी जाहेरात कराय छे
कली ना युग मां तो हवे धुतारा ज पुजाय छे

गरीब ने देवा तो ऐनी आवक पुछी लेवाय छे
मंदीर नी आवक नो हीसाब क्यां पुछाई छे?
कली ना युग मां तो हवे धुतारा ज पुजाय छे

जे भाव नो भुख्यो छे ऐने चादरो चडावाई छे
ठंडी मां बालक ऐक खुला वदने सुई जाय छे
कली ना युग मां तो हवे धुतारा ज पुजाय छे

भोला बालुडा नी हवे खबरो क्यां पुछाय छे?
श्रीमंत ना श्वानो ना जन्मदीवस उजवाय छे
कली ना युग मां तो हवे धुतारा ज पुजाय छे

हे प्रभु तारा देह पर नित वाघा बदली देवाई छे
देव कपडुं दई कोईनी मर्यादा क्यां ढंकाई छे?
कली ना युग मां तो हवे धुतारा ज पुजाय छे

✍🏻देव गढवी
नानाकपाया-मुंदरा
       कच्छ

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads