.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

Sponsored Ads

Sponsored Ads

.

Notice Board


Sponsored Ads

6 फ़रवरी 2017

||कटम नो कंकास|| - रचना: जोगीदान गढवी (चडीया)

.            *||कटम नो कंकास||*
.   *रचना: जोगीदान गढवी (चडीया)*
.         *ढाळ: भणुं शे भगवान*

कटम नी कंकाश,  हजीये लेवा ना दे हाश
केवो जोने कटम नी कंकाश...टेक

विर क्यो ई विभसण थई खुटल निकळे खास
आज नो नई दोष आतो ,त्रेता जग थी त्रास
केवो जोने कटम नी कंकाश....01

कुरु खेतर वाढे  कटमी लेवा ना रे लास
अंतर मां बस एक आसा, गळचवा ने ग्रास
केवो जोने कटम नी कंकाश....02

आवे नई अद बेहरा भले, रदय ने ई रास
मातम राखी मोटप्युं नु, वेरी मां कर वास
केवो जोने कटम नी कंकाश....03

पोता ना जण वाढे पग तो, अवर नी शुं आस
कटम उठीन काळ वरहे, छांटो ना दे छास
केवो जोने कटम नी कंकाश....04

काळज एवा काळां जांणे ओली, डाकण एनी दास
जोगीदान के जांणो एनो, नकीय थासे नास
केवो जोने कटम नी कंकाश....05

🌞🙏🏼🌞🙏🏼🌞🙏🏼🌞🙏🏼

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads