.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

15 जुलाई 2017

कवि कानदास मेहडू नी एक रचना

कवि कानदास मेहडू नी एक रचना

आगुसे धसीऐ ना, धसीऐ तो खसीऐ ना,
शुर के समीप जाके, मारीऐ के मरीऐ,
बुद्धि विना बोलिये ना, बोलिये तो डोलीये ना,
बोल ऎसो बोलिये के बोलीये सो कीजीये,
अजाण प्रीत जोड़ीये ना, जोड़ीये तो तोड़ीये ना,
जोड़ ऐसी जोड़िए के जरियानमें जड़ीये,
कहे कवि कानदास, सुनोजी बिहारी वलाल,
ओखले में शिर डाल, मोसलेसे डरीये ना

 समजूति
 आगेवानी लेवी नही अने लेवी तो अधवच्चे छोड़ी न देवी,
शूरवीर साथे जवु तो मारीऐ कां मारीये,
बुद्धिथी विचार्या विना बोलवु नही,
बोल्या पछी फरवु नही,
ऐटलु ज बोलवुं जोइये के जे वर्तन करी शकाय,
अजाण्या साथे संबंध बांधवो नहीं,
अने जो संबध स्थापित थाय तो ऐने नजीवा कारणथी तोड़वो नही, जो सबंध जोड़वानो थाय तो कापड़ पर भरतकाम करीऐ तेम ओतप्रोत थई जंवु जोइए,
कवि कानदास बिहारीदास ने कहे छे
खांडणीआमां मस्तक मुक्या पछी सांबेलाना घा थी डराय नहीं.

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads