.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

25 अगस्त 2019

|| छंद पध्दरी || || कृष्णरासास्टकम ||

*||रचना :  कृष्णरासस्टकम  ||*
          *|| छंद : पद्धरी ||*
         *|| कर्ता : मितेशदान  गढ़वी(सिंहढाय्च) ||*

*मत भय मलंग जन पद मलिन,दत नाम सतत कर भजन दिन,*
*जय जय कृपाल घट जपत जाप,अति रमण चंद मित कृष्ण आप(1)*

*ठुम ठुमकताल बज मृदंग ढोल,बजताक बहक मद घटत बोल,*
*करताल न्याल हर भक्त कैक,अरु चढ़त नाद हर हर अनेक(2)*

*संगम सरित समदर सुजान,तट रास रच्यो कर चड्यो तान*
*सा रंग अंग सा रंग सजे,बहु ताल बीरंगी नाद बजे(3)*

*रण झण रण झांझर झणक रणे,कम कम पद कानड  रजत कणे*
*गण गोप गुवालिय गहन गति,वद श्रावण आठम वाट वति(4)*

*मयूराव कळा रसपान रास,अति भर उमंग मन रची आस*
*पहुड़ा घट वांसळ ध्यान पमे,खेचर  तह वन मही वखत खमे(5)*

*हर नाथ सती उमिया हयात,ब्रह्मा मुनि नारद करत बात*
*जोवत प्रभु बाला कृष्ण जोग,सजियो जशोदा नंदन संयोग(6)*

*मधरात रंग वसु धर महान,जमुना तट सत रंगीन जहान*
*दस रंग अंग अठ अज द्रशाय,वद नाम कृष्ण मुख जन वहाय(7)*

*आठम अनंत जग पर उजास,सुध श्याम रंग मित भर सुवास*
*पदधरी छंद तुव रिदय पास,रमणा संग याचुह  कृष्ण रास(8)*

*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

*कवि मित*

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads