.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

Sponsored Ads

Sponsored Ads

.

Notice Board


Sponsored Ads

26 अप्रैल 2020

|| खाखी नु जोर ||

*खाखी नु जोर*

*तुम्बरो*

*धोका लै ने धामधुम,विदाइ देता वीस,*
*अरररर मारा इश,मोर बोली ग्या मितभा*



*कवित*

*दख न सु अखज बल रखज नकोय होय,कांधन कु जोर तिहि मन्नख कळायो है,*
*आतल न बातल रसातल कु रंगसोय,अंग सोय कारण धर खाखी लगवायो है,*
*गो नकोय खे धर तल पा धरा पर गुणोय,होय भल्ल हांक सु ए सादुडो कहायो है,*
*नक्कल को अक्कल दिलावे अटकल्ल सो,बक्कल बन देश को ये मित को सहायो हे,*


|| सवैयों ||


*जकड़ी बंध जोड़ कड़ी ज कड़ी,अकड़ी सब जोड़ भरी अकड़ी,*
*अकड़ी लिये पाण कड़ी पकड़ी,पकडी सह गांठ कुटि ल कड़ी,*
*लकड़ी सगी ना हीन बेल कड़ी,तकड़ी पुठ लोक पड़ी  ककड़ी,*
*फकडी मित भार चडी लकड़ी जद भान ठर्यो उकडी उकडी,*

*कवि मितेशदान  गढवी(सिंहढाय्च)*
9558336512

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads