.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

4 जुलाई 2016

देव गढवी

मुख खुलता जेमनुं पर दु:ख भांगी जाय
"देव" ई सिध्ध संत जानीये ई नौका पार लगाय

अंदर थी नरम माखण ने बहार थी सखत देखाई
"देव" ऐ नो संग न छोडीये तो भवसागर तरी जाय

दुर्जन मलता लाख पण ऐक सज्जन न देखाई
"देव" ऐक स्वजन मलता ह्रदय तरस मटी जाय

पुस्तको मलता पैसा थी ऐ थी ज्ञान ग्रहण न थाय
"देव" मले कोई गुरू ज्ञानी तो संसार सार समजाय

प्रेम नी व्याख्या अटपटी ऐम ज न समजाई
"देव" राधा धेलो कान कहेवायो ने रुकमणी वरी जाय

✍🏻देव गढवी
नानाकपाया-मुंदरा
        कच्छ

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads