.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

27 अगस्त 2016

।। शब्द ना सहारे ।। - जयेशदान गढवी

।। शब्द ना सहारे ।।

* करूं छुं वात भीतर नी, शब्द ना सहारे।
जमावट छे जिगर नी, शब्द ना सहारे।

* न साथी न संगी न काफलो के भोमियो।
भाळ मळे छे डगर नी, शब्द ना सहारे.....।

* व्हेंचतो रहुं छुं खुश्बो जमाना ने हरदम।
खाण खोदी छे इतर नी,
शब्द ना सहारे.....।

* कदी भाव मारा, तारी लागणी पण।
चर्चा चर अचर नी, शब्द ना सहारे.....।

* अमृत ना कुंप सो, वसे छे ह्रदय मा।
तरूं नदी झहर नी,
शब्द ना सहारे.....।

* कंइ खोवाया नी वेदना, कंइ पामवा नी झंखना।
वात अगर के मगर नी, शब्द ना सहारे.....।

* करूं एक पुरी त्यां आरंभ सेंकडो नो
"जय" वणझार सफर नी, शब्द ना सहारे.....।
* * * * * * * * * * * * *
-कवि: जय।
- जयेशदान गढवी।

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads