.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

16 अगस्त 2016

कच्छी मालधारी खेडु नी व्यथा रचना :- देव गढवी नानाकपाया-मुंदरा-कच्छ

कच्छी मालधारी खेडु नी व्यथा
               *मीं*

मीं जो नांय छंढो रुगो लगेतो वा

कीरतार कर महेरभानी
                     थी पे थोडो-जजो घा

बोलकणा बो पगा तां
                     कंधा कींक न कींक
अबोला भुखया रोंधा
                     बस ऐनजो आय ध्रा

ही थधें थधें वा से हाणे
                     गौ-धन रखणों कीं?
ईंजी ईज चिंधा में हाणे
                    सनां खेडु कढेंता डीं

✍🏻देव गढवी
नानाकपाया-मुंदरा
       कच्छ

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads