.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

22 अगस्त 2016

शिव स्तुति - रचना :- थार्या भगत  (झरपरा)

शिव स्तुति
दोहा

हरकरूणा बिन दिशत नही, सब गुण धर कैलास.
सो योजन विस्तार वट, तहां शंकर करत निवास.

              छंद:-रणंकी
कर कर निवास शंकर समरथ, झर झर मुखमें तेज झरे.
खर खर गंग जटामें खरकत, भरर भभूति सुअंग भरे.
चरचित चंदन गंध समीरे, मधुकर वृंद गुजारत है.
शोभित शिव कैलास शिखरपर, अजर अमर बिराजत है.    १

वाघचर्म वस्तर अतिशोभित, चम चम भाल शशी चमके.
लरलर गले भुजंगम लरकत, ठणण श्रवण कुंडळ ठमके
गौरवदन पर जूल लटाक, अनंग अनेक लजावत है.
शोभित शिव कैलास शिखर पर, अजर अमर बिराजत है.    २

त्रेंक त्रेंक शंखरव शणणण, डिम डिम डिम डमरूक बजे.
धिनक धिनक तबलध्वनि बाजत, गणण गणण दशदिग्गरजे.
किन्नर चारण गावत गुण गण, अजब अप्सरा नाचत है.
शोभित शिव कैलास शिखर पर, अजर अमर बिराजत है.    ३

पद पदमासनको हि जमावत, बढ अष्टांग हीयोग बढे.
संकर सेज स्वरूप संभारत, सर सर सुखद समाधि चढे.
विगत करत युग कोटी हजारो, धीरे प्राण उतारत है.
शोभित शिव कैलास शिखर पर, अजर अमर बिराजत है.   ४

नाग नर देवा कर पद सेवा, धर धर योगी ध्यान धरे.
अनंत अजन्मा एक अनुपम, डर डर आगे काल डरे.
अष्टसिद्धि नवनिधि कर जोड, हमेश हुकम पर चालत है.
शोभित शिव कैलास शिखर पर, अजर अमर बिराजत है.   ५

कर महेर देवाधिप मुजपर, हर हर मेरे दोष हरो.
भवसागर बूडत है नैया, धर कर बेगसे पार करो.
अविचल वास दियो चरनोंमें, थार्यो ए वर मागत है.
शोभित शिव कैलास शिखर पर, अजर अमर बिराजत है.  ६

रचना :- थार्या भगत  (झरपरा)
टाइप :- सामळा .पी. गढवी ना जय माताजी
मो :- 9925548224
भुल चुक क्षमा
🌹🙏🙏🙏🌹

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads