.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

17 सितंबर 2016

युं तेरा आना.....देव गढवी

युं तेरा आना मौसम बनकर फिर चले जाना
के जैसे खिल कर गुलों का फिरसे मुरजाना
                         युं तेरा आना......

बसा कर आशीयां मुझसे दुर गर तुं खुश है
मेरा लाजमी है मुश्कुराकर गमको पी जाना
                          युं तेरा आना.....
                        
शब-ऐ-फिराक की वो बातें मेरी राजदार है
वो आंखों का सरानें पर जमकर बरसाना
                          युं तेरा आना.....

कभी ख्याल भी मेरे इस कदर मायुश होते है
कभी इस दील का भी जोरों से घड़क जाना
                          युं तेरा आना.....

हम तो बयां कर रहे थे अपनें ख्वाब की बातें
बे-वजह छलका है"देव"आंखो का ये पैमाना
                           युं तेरा आना.....
                          
✍🏻देव गढवी
नानाकपाया-मुंदरा
       कच्छ

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads