.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

26 मई 2017

25 मई दुनिया के लिये तारीख, मेरे लीये सदमा

25  मई दुनिया के लिये तारीख, मेरे लीये सदमा

ऐक साल हो गया लखुबापु को विदा लीये, मगर आज भी वो मेरे झहन में वैसे ही झिंदा है,
जैसे हुआ करते थे. आज चंद अल्फाझ कमल उनके चरणों में बेटी होने के नाते करती हूँ.

बापू देखो ना आज
मैं कितनी सायानी हो गयी हूँ.
आँखों में नमी नहीं आने देती
सदा मुस्कुराती हूँ.
खुद हँसती हूँ और,
सबके चेहरों पे हंसी लाती हूँ.

आपने ही सिखाई थी न ये सीख ....
संतुष्टि के धन को संजोना
वोही सब कर देता है ठीक...!

आप सदा कहते थे न
मैं आपका अच्छा बेटा  हूँ
मैं अच्छी भी बन गयी हूँ
अब तो लौट आओ ना बापू !

बापू आपके बिना तो मैं
सागर हो कर भी मरुथल हूँ.
सर्व शक्तिमान होकर भी
निर्बल हूँ,
(सबके बीच स्वयं को भुला कर भी
आपको नहीं भुला पाती बापू !)

बापू तो सदा बापू ही रहते हैं ना
फिर आप ' बापू थे' कैसे हो गए ?
मैं तो आज भी आपकी ही बेटी हूँ.
अब तो लौट आओ ना बापू !

-हिमानी💐

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads