.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

23 मई 2017

प्रतापसिंह बारहठ(चारण) की प्रतिमा का अनावरण

24 मई 2017 ; चलो बरेली ; एक दिन


अमर शहीद प्रतापसिह बारहठ के नाम

शक्ति उपासक समाज और देश के लिए इससे बड़ा कोई दिन नहीं हो सकता, जब उसके शहीद हो चुके शहीद को याद करने का दिन हो ।
कहा भी गया है:- शहीदो की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले; वतन पे मिटने वालो का यही बाकि निशां होगा।
कुंवर प्रतापसिह बारहठ ; जो मात्र 19-20 साल की आयु में देश की स्वतंत्रता के लिए, बरेली जेल में अंग्रेज आक्रांताओ की यातनाओं को सहन करते करते शहीद हो गये, मगर अपना मुह नहीं खोला और जब अंग्रेजी आततायियों ने उस बाल युवां से कहा, जिसने जवानी तो क्या ठीक से बचपन भी ठीक से नहीं जियां था, कि तुम्हारी माँ रो रही हैं ; तो उस अमर शहीद के मुह से जो शब्द निकले वह आज सम्पूर्ण भारत देश के लिए स्वर्ण अक्षरमय ध्येय वाक्य बन गये और बच्चा बच्चा उन अमर वचनो पर गर्व करता हैं ।



वह ध्येय वचन थे:-
मैं अपनी एक माँ को हसाने के लिए, देश की हजारो माताओं को नहीं रूला सकता हूँ ।



अमर शहीद कुंवर प्रतापसिह बारहठ।
जी हाँ ऐसे युवां शहीद जिस परिवार और जाति में जन्म लेते हैं वें समस्त राष्ट्र के सपूत होते हैं और आने वाली हजारो पीढियों तक पूरा राष्ट्र उनका ऋणी रहते हुए गर्व करता हैं ।
क्रान्तिकारी अमर शहीद कु.प्रतापसिह बारहठ की जयंती और शहादत दिवस के दिवस 24 मई  को ही उनके शहादत स्थल बरेली में पी डब्ल्यू डी पार्क , राजेन्द्र नगर, बरेली, यूपी. में स्मारक बनाने का बीड़ा उठाकर एक लम्बा संघर्ष लड़ने वाले श्री सुधीर विद्यार्थी के प्रयासो से मूर्त रूप लेने जा रहा हैं
राजस्थान से इस प्रयास को आगे बढाने वाली संस्था बनी शहीद प्रतापसिह बारहठ सेवा संस्थान, शाहपुरा, भीलवाड़ा के अध्यक्ष परमानंद कुमावत और सचिव श्री कैलाशसिह जाडावत हैं ।
बरेली में प्रस्तावित स्मारक निर्माण हेतु -CGIF (चारण-गढवीं इंटरनेशनल फाउण्डेशन) ने एक लाख पचास हजार की सहयोग राशि प्रदान की हैं।
इस विषय में ज्ञातव्य है कि आसारानाडा जोधपुर में, जहां से शहीद कुं. प्रताप सिह को आखिरी बार गिरफ्तार कर बरेली जेल भेजा गया था, वहां श्री गोपालसिह किनिया, मोतीभवन, जोधपुर के प्रयासो से पचास लाख की लागत से जोधपुर विकास प्राधिकरण के द्वारा भव्य स्मारक दो वर्ष पूर्व बन चुका हैं।
इस कार्यक्रम हेतु एक आयोजन समिति बनाई गई हैं जिसमें :-
अध्यक्ष - प्रो एन के शर्मा
अन्य पदाधिकारी 
1.श्रीमति कविता भारती ।
2.श्री सुरेन्द्र बीनु सिन्हा ।
3.असफाक उल्लाह खां आदि ।
24 मई 2017 को स्मारक स्थल पर प्रस्तावित (संभावित) कार्यक्रम की विगत इस प्रकार हैं
1. मुख्य अतिथी- प्रो.जगमोहन( शहीद भगतसिह के भानजे)
2.अध्यक्षता:-श्री आई एस तौमर( महापौर)
3. मुख्य वक्ता-श्री ओंकारसिह लखावत
श्री कैलाशदान जाडावत
प्रो. हाकमदान चारण
देशभक्तों और समाज सेवकों के प्रयासों से अमर शहीद कुवंर प्रतापसिह बारहठ का स्मारक बरेली में बन चुका हैं जिसका लोकार्पण 24 मई 2017 को मध्याह्न लगभग 4 बजे प्रस्तावित हैं । 
जोधपुर और अजमेर से वाया जयपुर सीधी ट्रेन हैं बरेली के लिए अत: आप 23 मई को (कार्यक्रम से एक दिन पहले ) रिजर्वेशन करवाकर अधिकाधिक संख्या में बरेली पधारे ।
यह एक राष्ट्रीय कार्यक्रम हैं जो हमारे समाज के एक सपूत को समर्पित हैं । हमें बरेली जाकर  एक युवा अमर शहीद को अपने श्रद्धा सुमन अर्पण करने का ऐसा दुर्लभ अवसर पुनः नहीं मिलेगा ।
भोजन एवं आवास व्यवस्था बरेली में की जा रही हैं ।
आप सभी से करबद्ध अनुरोध है कि महान देशभक्त और युवा शहीद श्री प्रतापसिह बारहठ को "जन्मदिवस और शहादत दिवस "24 मई 2017 को ऐतिहासिक स्थल बरेली उतरप्रदेश* पहुंचकर उस महान देशभक्त युवा शहीद को अपने श्रद्धा सुमन अर्पण करें ।
आओ ! हम सभी मिलकर आज, जाति व समाज का ही नहीं, वरन राष्ट्रधर्म का निर्वाह करें। 
निवेदक
1.शहीद प्रतापसिह बारहठ सेवा संस्थान, शाहपुरा, भीलवाड़ा
2.चारण गढवीं इंटरनेशनल फाउंडेशन(CGIF)
3.श्री केसरीसिह बारहठ, चारण सेवा संस्थान
【इस मैसेज के जन जन तक पहुंचाकर आप सभी अपना समाज और राष्ट्रधर्म का निर्वहन अवश्य करे ।】


कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads