.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

Sponsored Ads

Sponsored Ads

.

Notice Board


Sponsored Ads

1 जनवरी 2018

राहुल गढ़वी (लीला) अने तेमनु सोनल युवा संगठन - संकलन धर्मदिप नरेला

मित्रो, बंधुओ,

ऐक तरफ भारत ज्यां आजे विकास अने डिजिटलायझेशन नी दौड़ मा व्यस्त छे, गरीब कल्याण अने ज्ञातिवाद नी सतत विवादास्पद राजनीती मा भारत नु नैतृत्व गळाडूब छे, नाना मा नाना थी लइने सारा सारा वेपारीओ आजे आर्थीक संकडामण अनुभवे छे, त्यां सामे बिमारिओ अने ताव ना अवनवा प्रकारों, मोंघाडाट ऐना टेस्ट, सरकारी दवाखाना नी विशाळ लाइनों, सरकारी तंत्र ना तोछडा वर्तनो, अने भलभला नी जीवनभर नी बचतों ने वेरविखेर करी नाखता प्रायवेट हॉस्पिटल ना खर्चाओ, सामे गरीबवर्ग, मध्यमवर्ग, अने उच्च मध्यम वर्ग तो जाणे विवश अने दिशाहिन् बनी बेठो छे,

त्यारे इतिहास नी साक्षीऐ हर ह्ममेश चारणों ऐ वीना कोई स्वार्थ , के निजी फायदा  *समाजहित, राज्यहित, अने राष्ट्रहित* नी मुहीम हाथे धरी छे, तेज विचार धारा पर भावनगर वसता *राहुल गढ़वी (लीला) अने तेमनु *सोनल युवा संगठन* के जे ऐक नवोदित चारण संगठन छे, ते नाम तेवा गुण नी जेम युवा विचारधारा तेमज युवा जोश अने कैक करी छुटवा नो थणगणाट साथे मास्टर ओफ़ बिज़नस मैनेजमेंट मा सिखवाता ऐक पायाना सिद्धांत एटले के *when everything is uncontrollable, Go Back To Basics* "ऐटले के परिस्थीति ज्यारे काबू बार होय त्यारे, मूळभुत अने पायाना कार्यो थी फरिथि शरुआत करवी" ने ध्यान मा लय ने पोताना मिशन पर लागी ग्यु छे,

                    छेल्ला 1 वर्ष मा कर्या छे 12 फ्री मेडिकल केम्प, ते पण अलग अलग फेकल्टी ना निषणात् डॉक्टरो द्वारा, गामडा मा वसता तमाम वर्ग, अने तमाम वर्ण ना लोको माटे कोई ज्ञातिभेद, के वर्णभेद वगर, आ केम्प मा पीड़ित लोको नी जनरल, ह्रदय रोग, तथा आँख, दांत, नाक कान, गळा, वगेरे सारवार तेमना आंगणे विनामुल्ये करवा मा आवे छे. सतत बदलाता गामो, तबीबो, सःकार्यकर्ताओ , वच्चे जो काई सतत अने सखत रीते दृढ छे तो ते *राहुलभाई गढ़वी नी सेवा अने (यु.के.)  स्थित दाता श्री शारदाबेन दिलीपभाई रुडाच् नो आर्थिक सहकार,* जेमणे केम्प दीठ अंदाजित 600 ऐटले के कुल 7000 (सात हजार) थी पण वधु लोको ने आ सेवा पूरी पाड़ी छे. अने तेओ आवनारा समय मा पण आ सेवाओ ने वधु प्रबळ अने लोकभोग्य बनाववा कटिबद्ध छे.

                      चारणों द्वारा प्रारंभायेल आ महत्वपूर्ण अभियान, अन्नेक संगठनो, ज्ञातिओ, अने व्यक्तिगत समाज सेवको ने दिशा चिंधनारु अने प्रेरणा स्त्रोत बनी रहे तेवि ईश्वरिय तत्वों ने प्रार्थना सः,

आपनो
धर्मदिप नरेला.
(संकलन अने ऐहवाल नी कलम)

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads