.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

5 फ़रवरी 2015

आद्य शक्ति माँ हिंगलाज वंदना

             लघु नाराच छंद

प्रचंड दंड बाहु चंड योग निद्रा भैरवी

भुजंग केश कुंठलाय कंठला मनोहारी,

 निकंद काम क्रोध दैत्य असुरकाल मर्दनी 
,
नमोस्तु मात हिंगलाज निर्मला निरंजनी ||||

रक्त सींग आसनी सावधान संकरी,

कुठार खडग खप्र धार कर दलन महेश्वरी,

 निसम्भ साम्भ रक्त बीज देत तेज गंजनी

नमोस्तु मात हिंगलाज निर्मला निरंजनी ||||

जवाहिर रत्न बेल केल सर्व कर्म लोलानी
,
व्याल भाल चन्द्र केत पुष्प माल मेखली,

चंड मुंड गर्जनी सुनाद बिन्द वासनी

नमोस्तु मात हिंगलाज निर्मला निरंजनी ||||

गजेन्द्र चाल काल धूम सेतु चाल लोलानी,

उदार तेज तिम्र नास सुशोभे ऐष्क संकरी,

अनाथ सिध्ध साध्य लोक सप्तद्वीप बिराजनी,

नमोस्तु मात हिंगलाज निर्मला निरंजनी ||||

शैल शिखर राजनी जोग जुगत कारनी,

 चंड मुंड चुर कर सहस्त्र भुज दायनी,

 विकराल केश वेश भुत अंतरूप दामनी,

नमोस्तु मात हिंगलाज निर्मला निरंजनी ||||

कलोल लोल लोचनी आनंद कंद दायनी ,

 हृदय कपाट खोलनी सुशेप शब्द भासनी,

धर्म कर्म जन्म मात भक्ति मुक्ति दायनी,

नमोस्तु मात हिंगलाज निर्मला निरंजनी ||||

अलोक लोक राजनी दिव्य देव वरदायनी

त्रिलोक शोक हारणी सत्य वाक्य बोलनी,

आदि अंत मध्य मत तेरो रूप सर्जनी,

नमोस्तु मात हिंगलाज निर्मला निरंजनी ||||

शेव सारद नारद आदि योग निद्रा भैरवी,

गंध मदन केल करत मांग दैत्य माइनी,

अम्ब खंभ फाडनी हव्य कव्य दायनी,

 नमोस्तु मात हिंगलाज निर्मला निरंजनी ||||

अष्ट हंस गर्जनी त्रिशूल चक्र धारमी,

काल कंठ कुंठ व्याल मुंड माल धारनी,

धूम धार श्वेतरूप दैत्य गर्भ भंजनी,

नमोस्तु मात हिंगलाज निर्मला निरंजनी ||||

 कुबेर वरुण इन्द्र आदि सिध्ध साध्यरंचनी,

अगम पंथ दर्श मात अमर पद दायनी,

श्री रामचंद्र शरण मात अमर पद दायनी
,
नमोस्तु मात हिंगलाज निर्मला निरंजनी ||१०|



                                 रचना श्री रामचंद्र मोड रांणेसर (बावळा.

3 टिप्‍पणियां:

Nagraj Gadhvi ने कहा…

Jai Ma Hinglaj

kishan charan ने कहा…

जय माँ हिंगलाज

Unknown ने कहा…

જય માં હિંગળાજ

Sponsored Ads