.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

Sponsored Ads

Sponsored Ads

.

Notice Board


Sponsored Ads

3 मार्च 2016

गीत सपाखरु

गीत सपाखरू
देवां दातारां झुझारां चारां वेदां अवतारां दशां धरां हरां ज्यारां रवि बारां चारां धाम। सत्तियां जत्तियां सारां सूरां पूरां रषेसरां। पीरां पैगम्बरां सिद्धां साधकां प्रणाम।।१।।
नवां नाथां नवां ग्रहां नवसो नवाण नदी नखत्रां नवेही लाखां भाखां नवे निद्ध । परवत्तां आठ कुल़ा वसु आठ बन्दा पाव साठ आठ तीरथा समेता आठ सिद्ध।।२।।
सातां वारां सात वीसां नखत्रां सरग्गां सात सपत्ता समुंदां सात प्याल़ा तत्त सार। पुराणां अठारां भारां अठारां वन सम्पत्ति उच्चरां आदेशां आदिनाथ ओउंकार।।३।।
पारसं कल्पतरू चन्द्र सूर दीगपाल पृथवी आकाश पाणी पावक पवन्न । कैवलासवासी ईश कुबेर नमस्सकार ब्रहम्मा गणेश शेष खगेश विसन्न ।।४।।
अजोध्या मथुरा माया काशी कांची अवंतिका पुरी द्वारामत्ति सरसत्ति गंगापार। गोदावरी जंमी रेवा गोमती गया प्रयाग कावेरी सरज्जू मही बदरी केदार।।५।।
सोमवल्ली चिंतामणी रोहणी सूभद्रा सोहा सावत्री गायत्री गीता अरुंधती सीत। कामधेन श्री अदीती रांद्दल द्रौपदी कुंती पारवत्ति सत्ति तारा लोचना पवीत।।६।।
चौरासी चारणां देवी छपन कोटि चामुण्डा माता हींगलाज आशापुरा महंमाय । अंबिका कालिका नागणेची डूँगरेची आई रवेची चाल़क्कनेची नमो सुरांराय।।७।।
बालमीकी शुकदेव वशिष्ठात्री वेदव्यास गौतम शनक्कादिक इंद्र सालिग्राम । जमदग्नि धर्म प्रथु मान्धाता जजिठल रणछोड़राय रिष्यावंत राजाराम।।८।।
मछंदर जालंधर गोरखं धुंधलीमल्ल चक्रवर्ती अजेपाल गोग चहुवाण । मल्लीनाथ जस्सराज मागणासुं तुषभान रामदे सोमदे पाबु रायमल्ल राण।।९।।
जंगमां थावरां गणा गंध्रवां किन्नरां जख्खां विघन्न बुराई वाद वारीजे वियाध । कमाईरां पुरां नरां अम्मरां हमीर कहे अमां रिद्धि सिद्धि देजो वडारे आराध।।१०।।
रचना:- भुज (कच्छ) महारावश्री ना अजाची चारण कवि हमीरजी रत्नू कृत

1 टिप्पणी:

Unknown ने कहा…

ज्योतु जलम्ब तेज अम्बा ।। Sir please give me some lyrics of this kind of chhand. My self urvish Pandya. 9428596678

Sponsored Ads