.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

Buy Now Kagvani

Sponsored Ads

Sponsored Ads

.

Notice Board


Sponsored Ads

6 जुलाई 2016

कच्छी नये वर्ष जी वधायुं


*" कच्छी नये वर्ष जी " वधायुं*
गजण गजे ने मोरला बोले,
मथे चमकेती विज हलो पांजे
कच्छडे आवी अषाढी बीज
कच्छी नवु वर्ष आप सौ ना जीवन मा लाभदायी, प्रेरणादायी , उन्नतीमय, प्रगतीमय तथा मंगलमय बने तथा रथयात्रा द्रारा नगरचर्या करवा निकळेल भगवान जगंन्नाथ नी आप सौ पर अविरत कृपा वरसे, एवी भगवान जगंन्नाथजी ना चरणो मा प्रार्थना
अषाढी बीज नी आप सौ ने मारा अने मारा परिवार वती खुब खुब शुभकामनाओ
कच्छी नवो वरे अषाढी बीज जी लख-लख वघाइयु
वेजांध गढवी
मोटा भाड़िया मांडवी कच्छ
www.charanisahity.in

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads

ADVT

ADVT