.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

Buy Now Kagvani

Sponsored Ads

Sponsored Ads

.

Notice Board


Sponsored Ads

4 अगस्त 2016

सूर्य वंदना -04-08-16 रचना जोगीदान गढवी(चडीया)

श्रावण ना द्वीतीय दीने सुर्य वंदना

गंद सुगंद न कंद न  वंदन, नंदन कास्यप देव नरा
पंदन छंदन तंद न तारक, चंदन मंदन घौंट चरा
अंदन फंदन डंडन आरक, जंदन जोगड दान जरा
तंदन बंदन तौड बरंदन, खंदन रंदन नाथ खरा

हे भगवान सुर्य नारायण हुं गंध सुगंध कंद के फुल सीवाय हे कस्यप ना नंदन तमने वंदन करुं छु, तमने छंद धरी तंद्रा सिवाय मंद नई एवा चंदन समा घुंटायेल चराचर जगत स्वामी,जंदन जे दिवस जोगीदान जरा अवस्थाये पोगे त्यारे दंड ना फंद ने हे आरक (अर्क =सुर्य) तं दन (ते दिवसे )तमाम बंदन तोडजे हे खोळो खुंदवनार रांदल ना नाथ तने नित्य वंदन
🌅🌞☀🙏🏼☀🌞🌅

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads

ADVT

ADVT