.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

21 सितंबर 2016

चित चेत सिंहाना फीर नहीं आना : रचना :- पिंगळशीभाई पाताभाई नरेला

*```कवी श्री पिंगळशीभाई पाताभाई नरेला रचित एक रचना```*

*चित चेत सिंहाना फीर नहीं आना , जगने आखर मर जाना*

दुहो :
हर विपति हाथसे , डर पर दारा दाम .
धर ईश्वर नित ध्यानमे , कर नेकी के काम .

*```छंद त्रिभंगी```*

कर नेकी करमसे डरपर धरसे , पाक नजरसे धर प्रिती.
जप नाम जीगरसे बाल उमरसे , जसले जरसे मन जीती .
गंभीर सागरसे रहे सबरसे , मिले उधरसे परवाना .
चित चेत सिंहाना फीर नहीं आना , जगने आखर मर जाना..||1||

मद ना कर मनमे मिथ्या धनमे , जोर बदनमे जोबनमे.
सुख हे न स्वपनमे जीवन जनमे , चपला धनमे छनछनमे.
तज वेर वतनमे द्रेश धरनमे नाहक ईनमे तरसाना .
चित चेत सिंहाना फीर नहीं आना , जगने आखर मर जाना..||2||

जुठा हे भाई बाप बडाई , जुठी माई माजाई .
जुठा पित्राई जुठ जमाई , जूठ लगाई ललचाई.
सब जूठ सगाई अंत जुदाई , देह जलाई समसाना .
चित चेत सिंहाना फीर नहीं आना , जगने आखर मर जाना..||3||

कोई अघिकारी भुजबलभारी कोउ अनारी अहंकारी .
कोउ तपधारी फल आहारी , कोउ विहारी वृतधारी .
त्रस्ना नहीं टारी रह्या भीखारी , अंत खुवारी उठ जाना .
चित चेत सिंहाना फीर नहीं आना , जगने आखर मर जाना..||4||

तज पाप पलीती असत अनीती , भ्रांती भीती अस्थिती .
सज न्याय सुनीति उत्तम रिती , प्रभू प्रतिति धर प्रिती .
ईन्द्री ले जातीसुख साबिती , गुण माहिती द्रढ ज्ञाना .
चित चेत सिंहाना फीर नहीं आना , जगने आखर मर जाना..||5||

दुनिया दो रंगी तरक तुरंगी , स्वार्थ संगी अेकंगी .
होजा सतसंगी दुर कुसंगी , ग्रहेन  टंगी जम जंगी .
*पिंगल* सुप्रसंगी रचे उमंगी , छंद त्रिभंगी सरसाना .
चित चेत सिंहाना फीर नहीं आना , जगने आखर मर जाना..||6||

*रचियता :- कवि श्री पिंगळशीभाई पाताभा ई नरेला*

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads