.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

Sponsored Ads

Sponsored Ads

.

Notice Board


Sponsored Ads

2 अक्तूबर 2016

चारण समाज का पहला भव्य महिला शक्ति सेमिनार, वडोदरा

चारण समाज का पहला भव्य
महिला शक्ति सेमिनार 

12-13 नवंबर बड़ोदा मे
चारण गढ़वी समाज  एक देविकुल समाज माना गया है
ये हमारा सौभाग्य है.
मगर बदलते दौर मे भी हमें इसकी प्रासंगिकता बनाये रखनी होगी व् ये तभी संभव होगा जब हम समाज की मातृशक्ति को सदैव आगे बढ़ने में प्रोत्साहित  करे. cguco, चारण शक्ति समाज वड़ोदरा और चारणाचार पत्रिका की ये महिला स्मारिका प्रकाशन  की पहल समाज की महिलाओ को नई पहचान देने मे सफल होगी
.हिंगलाज ,आवड  करनी, सोनल माँ, लूंग माँ की परम्परा आज भी समाज सुधार के क्षेत्र मे सर्वत्र वंदनीय है. हमारे समाज मे आज भी कन्याओ को माताजी का स्वरुप ,सुवासिनी  कहते है. भला हम से बड़ क़र  कौन मातृशक्ति  को पहचान  पायेगा.फिर भी आज अन्य जातियो की तुलना में  हमारे समाज की महिलाओ का संगठनात्मक रूप कम ही है .महिला स्मारिका के द्वारा निश्चित रूप से समाज की सक्षम व् सक्रीय महिलाओ के बारे में जानकारी तो मिलेगी ही  साथ ही वे स्वयं एक दूसरे के नजदीक आके अपना संगठन सुदृढ़ बना सकेगी 
महिला स्मारिका  में ग्रामीण,शहरी व्  रास्ट्रीय अंतरष्ट्रीय स्तर , निजी क्षत्र में कार्यरत , राजकीय पद पर कार्यरत,व्यवसायी,उद्यमी साहित्यकार व् अन्य कई क्षेत्रो में शोहरत कमाने वाली महिलाओ की जानकारी प्रकाशित होगी,जो समाज की महिला शक्ति के दर्पण के रूप में सबको दिखेगी.महिला शक्ति की सक्रियता का अहसास कराती श्री मति चन्द्रिका जी गढ़वी की इस पहल में चारणाचार पत्रिका भी जुडी हे.
निसंदेह  cguco  का यह प्रयास चारण गढ़वी समाज में महिला विकास को पहचान दिलाने में मील का पत्थर साबित होगा.राजस्थान गुजरात के अलावा दिल्ली हरियाणा मध्यप्रदेश व् न केवल सम्पूर्ण भारत देश वरन विदेशो में निवासरत समाज की महिला शक्ति को एक मंचपर लाने का भगीरथ प्रयास  आने वाले समय में प्रेरणादायी और यादगार होगा
अतः आप सभी से विनती है कि इस एतिहासिक आयोजन मे आप अपनी गोरवपुर्ण उपस्थिति प्रदान कर समाज कि महिला शक्ति को प्रोत्साहन करे , ताकि आने वाले समय मे हमारे समाज मे महिलाए ओर आगे बढ़े |

Cguco 
चारण शक्ति समाज वड़ोदरा
चारणाचार पत्रिका

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads