.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

Sponsored Ads

Sponsored Ads

.

Notice Board


Sponsored Ads

9 सितंबर 2017

सोनल आई रे रचयता : मायाबा गढवी

ढाळ : (अरे जारे हट नटखट ना छेळ मेरा घुंघट )
फिल्म : नवरंग

रचयता : मायाबा गढवी
गाम : राजकोट, जसदण

हे जी आई करु अरजी जेसी हो तेरी मरजी
मेतो लावु भर भर के फुल की थाली रे
आज मीठी लगे है सोनल आई रे

आया बीज का त्यौहार उडे रंग की बौछार
तु है मात मेरी आज मढडा वाली रे
आज मीठी लगे है सोनल आई रे

हो धरती है लाल
आज अंबर भी लाल
आई के आंगन मे खुशीयां अपार
      माई के आंगन मे बरसी बहार
      भरदेगी जोली मे खुशीयो कि हार

आया बीज का त्यौहार उडे रंग की बौछार
तु है मात मेरी आज मढडा वाली रे
आज मीठी लगे है सोनल आई रे

हो लाओ प्रसाद
लाओ फुलो का हार
आई के चरणो मे दिपक कि हार
     सुनलेगी मेरी आज दिल की पुकार
     मेरे भी मन की आज पुरी हर बात

आया बीज का त्यौहार उडे रंग की बौछार
तु है मात मेरी आज मढडा वाली रे
आज मीठी लगे है सोनल आई रे

हो झालर जनकार
बाजे ढोलक ओर ताश
रास रचे है आज नारी नरनार
     आई है खुशीयो कि ले के बहार
     कर देंगी कर देंगी मां सबका कल्यान

आया बीज का त्यौहार उडे रंग की बौछार
तु है मात मेरी आज मढडा वाली रे
आज मीठी लगे है सोनल आई रे

हे जी आई करु अरजी जेसी हो तेरी मरजी
मे तो लावु भर भर के फुल की थाली रे
आज मीठी लगे है सोनल आई रे
आज मीठी लगे है सोनल आई रे

    🙏  जय माताजी🙏
         🌷🌷🌷🌷

🙏भुल चुक होय तो सुधारवी🙏

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads