.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

11 फ़रवरी 2018

||रचना: दहेज || ||कर्ता मितेशदान गढवी(सिंहढ़ाय्च) ||

*||रचना:दहेज ||*
*||कर्ता: मितेशदान महेशदान गढवी(सिंहढ़ाय्च)||*
*||दोहा,छंद भाखडी||*

*{दोहा}*

*लखण काजे करे लेर,भंड लेय धन भोग,*
*मळे मलक में मीतड़ा,(एने)रिदै भरखे रोग*

*काळजा केरो कटको,देय धने जे दाम*
*माने जगमें मीतड़ा,(एने)रिदै वस्यो नै राम*

*लाड कोड ने लेरथी,करी चाकरी काई,*
*मोटी करी ने मीतड़ा,(एने)परे दहेजे पाई*

*रहेता कायम रोगी,(जे)कूळा घट रे काय*
(पण)
*मरे नरक मा मीतड़ा,(जे)धन दीकरी नु खाय*

*व्हालप हैये वेरियू,(ने जेणे)घेरयु आखु घर,*
*माणस मातर मीतड़ा,(एने)धन परे ना तू धर*

*भाग्य अधूरु भावमा,(ऐनु) देता वेहची देह*
*माणह एवा मीतड़ा,अथोक अकर्मी एह*

*छंद भाखडी*

वित्त खावयो जी के वित्त भावयो,
हित नावयो जी के हाय खावियो,

परया घरे परवेशवा सुत सहन दु:ख मन सेवती,
दुःख गहन अति निज माथ धर चिंता पिता दल हेवती,
दल काज घर पखवाज बन मूल दहेज दर्पण देखती,
दर्पण निखारे रूप पर इंण रीत रिवाज न रेखती,

*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

*कवि मीत*

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads