.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

14 अप्रैल 2018

||रचना: सूर्यपंचकं रेणंकी || || कर्ता मितेशदान गढवी(सिंहढाय्च) ||

*||रचना: सूर्यनारायण वंदना||*
*|| छंद:रेणंकी ||*
*||कर्ता: मितेशदान महेशदान गढवी(सिंहढाय्च)||*

*दुडीयंद नित प्रकट तमस तन दंभन,उजस मधुर जग तरस अपे,*
*त्रय तल तुही सकल सुखद मन तारत,जर भय अगन सु त्वरित जपे,*
*व्रहमण्ड ग्रहा नव मही नारायण,सात अश्व वाहन समा,*
*सुरजण सत नमन श्वास तुव शरणम,नरपत अमर अ मितत नमा,(1)*

*चक चक थळ चवन यवन उर चर चर,जळ हळ मच्छ जुराव जमे,*
*तरुवर खिल महैक महेक तृण तलखत,भिन्न बूंद जल असर भमें,*
*खिल खिल फूल पान फोर सह फरकत,खलक तन दल खगल कमा,*
*सुरजण सत नमन श्वास तुव शरणम,नरपत अमर अ मित नमा,*

*फट फट मद मोण चलित मुखियन फर,कटत कोट तिमिराण करड़,*
*गड़ड़ड घुघवाट घुरट भय गो घट,बळत तेज अति खरय बरड,*
*पळ पळ तुर पुंज प्रकाशन प्राछट,खंख रिदय राकेस खमा,*
*सुरजण सत नमन श्वास तुव शरणम,नरपत अमर अ मित नमा(3)*

*भभकत नभ भाण चमक रूप चंदन,सहज सुरम्यक लपट लटे,*
*मेघा वसु उछंग लगे उर मिहिरंग,अतिरंग अंगज अरक अटे,*
*निरखत प्रफुलीत चित मन अति नुर,भवा भजानं सकळ भमा,*
*सुरजण सत नमन श्वास तुव शरणम,नरपत अमर अ मित नमा(४)*

*रानादित उदत रंभ तुर रणकत,सुरधर सुंचण सूरज सरे,*
*ब्रह्मा त्रय लोक नाथ जिय शंकर,हरिहर सम्मुख गगन हरे,*
*खंका जय खटक मन्न खटकावत,तारत रिपु छय त्रम्म तमा,*
*सुरजण सत नमन श्वास तुव शरणम,नरपत अमर अ मित नमा(५)*
(सुंचण-दसमी शताब्दी मा आर्यव्रत द्वारा प्रवरत्तो एक धर्म जेमा सूर्य देव नी पूजा थाती)

*🙏~~~मितेशदान(सिंहढाय्च)~~

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads