.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

8 जनवरी 2019

|| सोनल आद्य स्वरूप || || मितेशदान सिंहढाय्च ||

*|| : सोनल आद्य स्वरूप : ||*
*|| : कवि मितेशदान महेशदान गढवी (सिंहढाय्च) : ||*
*|| : दुहा :||*

*पोष बिज पुरषार्थने,धरो जगावी धुप,*
*मानो आ मितराय के,सोनल आद्य स्वरूप,(1)*

*जगदंबा नित जागती,काट विकार कुरूप*
*मानो आ मितराय के,सोनल आद्य स्वरूप (2)*

*मीठप तोरी मावड़ी,अक्षत आई अनूप*
*मानो आ मितराय के,सोनल आद्य स्वरूप(3)*

*अम अवगुणे आईतु,चुके न आयल चुप,*
*मानो आ मितराय के,सोनल आद्य स्वरूप(4)*

*सत बेली संसारनी,आरंभ तुही उप*
*मानो आ मितराय के,सोनल आद्य स्वरूप(5)*

*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

*कवि मीत*
9558336512

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads