.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

Sponsored Ads

Sponsored Ads

.

Notice Board


Sponsored Ads

10 फ़रवरी 2019

|| हांसबाई माँ नी वंदना || ||कर्ता मितेशदान गढ़वी ||

*🔱प्रातः स्मरणीय प.पु.आई श्री हांसबाई माँ(मोटा रतडिया (मांडवी) कच्छ )नो 91 मो जन्म महोत्सव वसंत पंचमी ता:10-2-2019 ना आज माँ हांसबाई ना चरणों मा शब्द रूपी वंदन🔱*

*|| आई श्री हांसबाई माँ वंदना ||*
*|| छंद : दूर्मिळा ||*
*||कर्ता : मितेशदान महेशदान गढ़वी(सिंहढाय्च) ||*

*मृदुहय सोनल मावड़ी,हांसल रिदय हयात*
*मित नमु तुज मंगला,तारीं उदारता अखियात*

सिद्ध रिध समु नव निध सुरंगीय,ध्यान मनोरथ नित धरे,
चित आनंद हित समु चिर धारण,झारण तेज सलिल झरे,
हरखे नयनांगण आवत हे हर,से नित व्हाल उनित समे,
गुण हांसल नाम रतडिये गाजत,न्याल बणी त्रय लोक नमे(1)

शिवकार सदा मुख सार सज्यो,कर त्याग संसार में जाप कियो,
सतकार तणु सनमान सजाविय,जीवन काल निराल जियो,
दन दिव्य दयाल बनी दुःख दारिय,राज रिदै महमाय रमे,
गुण हांसल नाम रतडिये गाजत,न्याल बणी त्रय लोक नमे(2)

मृदुला मन भाव मही महमाय,विचार उद्धार सुधार वणे,
जग चारण तेज जणाव जनेतायु,जोगण रूप तु लाख जणे,
कुट विष तणा फंद काट कई,जग भाव तणा अमरित जमे,
गुण हांसल नाम रतडिये गावत,न्याल बणी त्रय लोक नमे(3)

रह साय सदा शकती सुखकारण,तारण ताप त्रिविध तणा,
शरणे तुज सेवक सार समे,पुन पामत लाभ उदारपणा,
कर जोड़ प्रणाम वदे करणी,अहोभाग  गण्या मित आज अमे,
गुण हांसल नाम रतडिये गावत,न्याल बणी त्रय लोक नमे(4)

*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

*कवि मित*
9558336512

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads