.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

19 सितंबर 2019

कुल्फ़ी वाला रचना देव गढवी

कुल्फ़ी वाला

ख़ुद जलकर तपिस में ठंडक बेचने निकला था
एक उम्र दराज़ शख्स कुल्फ़ी बेचने निकला था

कुछ बोझ कुल्फ़ी का कुछ जिम्मेदारियों का था
आंखे थी धुँधली और कुछ उम्र का तकाज़ा था

नन्हें बच्चों की हँसी में वो ख़ुश हुआ  करता था
मज़बूरी लिपटा फिर भी मुस्कुरा दिया करता था

ख़ुद अपने मासूम बच्चे घर पे छोड़ के जाता था
उनकी ख्वाईश पूरी करने उनसे ही दूर जाता था

एक कुल्फ़ी के लिए अपने बच्चों को तरसता था
रोते हुए दिल से वो शख्श आँसू को पी जाता था

थक हार के भी जब वो शाम को घर जाता था
बच्चों से छुपाकर दर्द वो हंसता नज़र आता था

फिर बिस्तर में लेटकर ख्वाबों में खो जाता था
'देव' हर शाम मरता वो सुबह जिंदा हो जाता था

  ✍️देव गढवी
नाना कपाया-मुंद्रा
        कच्छ

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads