.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

4 जुलाई 2016

जशो नहीं

आवी गया जो आप ह्रदय थी जशो नहीं
ऊजड न करशो बाग ह्रदय थी जशो नहीं

जे स्थान आप्युं छे तमोने ह्रदय महीं
ऐ स्थान दुर्लभ अती छोडी जशो नहीं
ऊजड न करशो बाग ह्रदय थी जशो नहीं

अमस्तो नथी मलतो आ संगाथ प्रीतनो
छोडी ने साथ प्रेम नो बीजे जशो नहीं
ऊजड न करशो बाग ह्रदय थी जशो नहीं

भटकवुं नथी आ "देव" ने जोवुं नथी कशुं
थंभी जावो हवे आप पण आगण जशो
नहीं
ऊजड न करशो बाग ह्रदय थी जशो नहीं

✍🏻देव गढवी
नानाकपाया-मुंदरा
        कच्छ

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads