.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

7 जुलाई 2016

जननी तणुं रुण

-जननी तणुं रुण-
जननी तणुं आ रुण जो ने तारा पर उधार छे
प्रियतम मलता मात भुले ऐ ने तो धिक्कार छे

राखी कोख मां नव मास पोष्यो रक्त खुद तणा दीधा
नीज मांस थी तने भाग दीधो ऐ ने वंदन वारंवार छे
प्रियतम मलता मात भुले ऐ ने तो धिक्कार छे

जीण आंगणी पकडी ने चालता शिखतो हतो
हवे आंगणी बनी हाथ तो अमथो तुं हरखाय छे
प्रियतम मलता मात भुले ऐ ने तो धिक्कार छे

दलडुं दु:खे तोये स्मित करती जाणे खुशी अपार छे
"देव" ऐ शक्ति नी चरण रज मां आखुये संसार छे
प्रियतम मलता मात भुले ऐ ने तो धिक्कार छे

  ✍🏻देव गढवी
नानाकपाया-मुंदरा
        कच्छ

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads