.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

17 सितंबर 2016

जिंदगी :- देव गढवी

  *जिंदगी*

जींदगी से हमें चंद शिकायतें भी है
दबी-कुचली सी कई ख्वाहीशें भी है

हंस भी लीया करते है यारों के साथ
खुद रो-कर हंसाने की आदत भी है

ये वक्त की फितरत की बेवफाई करे
हमें फिर भी वफा की हसरतें भी है

युं चंद ठोकरों से नही बिखर ने वाले
गीरकर संभलने की ताकत भी है

कई बार सवालात करते है आईने से
आईने में "देव" सी आहट भी है

✍🏻देव गढवी
नानाकपाया-मुंदरा
       कच्छ

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads