.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

24 नवंबर 2016

दुर क्षीतीज परथी

 *दुर क्षीतीज परथी...*

दुर क्षीतीज परथी पडतुं देखाणुं
         मारु ज समणुं मने रडतुं देखाणुं
आज लीला रंग ना चश्मा पहेरीने
         मृगलुं सुकां धांसने चरतुं देखाणुं
                        दुर क्षीतीज परथी...

आमतो रहेतुं हतुं सतत स्थिर जे
        ऐ चित आज थोडुं फरतुं देखाणुं
ऐवुं शुं थयुं लागणी छलकी आम?
       खाली नेह सरोवर उभरतुं देखाणुं
                        दुर क्षीतीज परथी...

बने नहीं ऐवुं के कोई भुलावे मने
     छतां ऐ स्वजन मने विसरतुं देखाणुं
हतुं बहु सख्त ने आज आम केम?
     "देव"पाषाण ह्रदय पीगणतुं देखाणुं
                        दुर क्षीतीज परथी...

✍🏻देव गढवी
नानाकपाया-मुंदरा
       कच्छ

कोई टिप्पणी नहीं:

Sponsored Ads