.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

31 जुलाई 2019

छंद हरीगीत रचिता चारण विजयभा हरदासभा बाटी

🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉

*🌹🌹🌹छंद=हरीगीत🌹🌹🌹*

*चल छोड दे अब छोड दे तुं वृथा चिंता छोड दे.*
*ताहरे अधीन है कर्म तो तुं कर्म नाता जोड दे.*
*होनी हरीवर हाथ रखियो सकल फिर जंजाळ है.*
*ईश्र्वर चरण ग्रह ललीत मनवा अवर माया जाळ है.*

*अब चल पुरानी़ प्रगट ज्योती लक्ष पर तुही ध्यान दे.*
*पारस पडा़ है पास तेरे हर घडी मे ग्यान दे.*
*क्षण क्षण जिवन की स्वर्ण कर दे सच्च यही संभाळ है.*
*ईश्र्वर चरण ग्रह ललीत मनवा अवर माया जाळ है.*

*शाश्र्वत तुंही चेतन गतिमय पथ्थ जिवन परिणाम दे.*
*पुरूषार्थही पहचाऩ तेरी सबलकर अनजा़म दे*
*धर्मा आदि फल देवन प्रभु वो परखही प्रेमाळ है.*
*ईश्र्वर चरण ग्रह ललीत मनवा अवर माया जाळ है.*

*तेराही पथ्थ तुंही पथिक बन परख मंजिल धार दे.*
*अवीरत सतत तेरी गति पर हा नीयत विस्तार दे.*
*प्रारब्ध वश सब प्राप्त है जियो पूर्व की परीथाळ है.*
*ईश्र्वर चरण ग्रह ललीत मनवा अवर माया जाळ है.*

*अपनाही खुदका बन दियाँ तु विषद् संशय छान दे.*
*तेरा किया तुंज को मिलेगा कबुल कर भुगतान दे.*
*फल दिऐं बीन तो कर्म तेरे खडा ज्यु महाकाळ है.*
*ईश्र्वर चरण ग्रह ललीत मनवा अवर माया जाळ है.*

*अब उठो उद्यम् शील साधो परमहित कर ठान दे.*
*हे ग्यानग्रृह मंगलश्रवो धन त्याग तप परमान दे.*
*दंद्वा परे कर कर्म सुचीता वही पूजन माळ है.*
*ईश्र्वर चरण ग्रह ललीत मनवा अवर माया जाळ है.*

*परमादही परीवर्त संकट दुखद मुल आधार दे.*
*प्राक्रम करो वंदन बृहद तो सुखद मुल साधार दे.*
*सुक्रत करो शुभदा प्रवीन वर गुण ग्रहो निजढाळ है*
*ईश्र्वर चरण ग्रह ललीत मनवा अवर माया जाळ है.*

*अमलुख समय पहचाऩ पहले खडो अवसर हाथ दे*
*कुछ सोच़ मनवा सोच़ मनवा त्यों हरीवर साथ दे*
*हा वदत वेदाश्रय श्रुती विज कहत प्रभु किरपाळ है*
*ईश्र्वर चरण ग्रह ललीत मनवा अवर माया जाळ है.*

🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉

*रचिता=चारण विजयभा हरदासभा बाटी.*

*मो=97263 64949*

🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉

|| सूर्यवंदना || || मितेशदान गढ़वी ||

*||  सुर्यवंदना ||*
*|| मितेशदान गढ़वी ||*

*(21-07-2019)*

*वरह्यो क्याक व्रहाद,कृपा कहु केनी काश्यप,*
*जळबंबा जळहाद,तर्या नय जपिया जप तप,*
*गळळळ गरजे गाम,क्याक गरजे कलपांती,*
*नारायण हर नाम,भजे तद भळके भांती,*
*आधार समोवड आपविण,नय बुंद जडे नाराण,*
*पट निहर  प्रौढ़ अवनी परे,पिंजे मित हर दल प्राण*

*(22-07-2019)*

*भव तम खोळे भान,ध्यान राखण तु धरनु,*
*भव तम खोळे भान,भान अभिमान ही भरनु*
*भव तम खोळे भान,देव आदि जग दाता*
*भव तम खोळे भान,परम सुख पोषण पाता*
*परमेश पितामह प्राणपति,अमरेष उमंग अधीर*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,खेडयो जग आभ खमीर*

*(23-07-2019)*

*तिमिर भले पर तेज,सेज छाये तव समतु,*
*इलम धरा सभी एज,भेज नही बनकर भमतु,*
*तेज तुही तिमिराण,अलग भाष्ये रूप आखु,*
*कला अलग किरपाण,जळहळ्यु एक ही झाखु,*
*दोधार तेग रूप दाखिया,तुह तिमिर तेज तलवार*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,भव जन मित ठारे भार*

*(24-07-2019)*

*सत रंगी सुर सात,अश्व पण सात आपना,*
*सत वारी समरात,जीवन दिन सात जापना,*
*सत ईशर गुण सेव,धरा जन आप ही धारे,*
*साथ न्याय अरु शांत,मनु जीव कदे न मारे,*
*सद गुण सत ज्ञाने समरियो,सत चाल्यो उण संसार*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,अणधारण मित अणसार*

*(25-07-2019)*

*दिनकर देव दयाल,न्याल नारायण नामी,*
*दिनकर देव दयाल,धरा पुंजत नभ धामी,*
*दिनकर देव दयाल,कळा अरविंद कृपाला,*
*दिनकर देव दयाल,विमल दल मित विशाला,*
*नव ग्रह वडील नारायणा,बहु भात्य भजत जे भाव,*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,घटघट साजा कर घाव*

*(26-07-2019)*

*हरिवर हैये हाम,सुरज बन जीवन सारे,*
*त्रिकम काम तमाम,त्रिपुण्डी गुण को तारे*
*तेज प्रथा धर ताप,चाप सब चक्र चलावे*
*आप कला अणमाप,मीत मन ईश मिलावे*
*परभु अम प्रीतम प्राणीया,तुज चक्र तणा हर तेज,*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,अम आतम भरताय एज*

*(27-07-2019)*

*उजियारा उपराज,अधर अज़वास उजारा,*
*उजियारा उपराज,धनी सुर वंश धजारा,*
*उजियारा उपराज,कवच धर बनी जकड कळ,*
*उजियारा उपराज,फलक तरुपरे झगित फळ,*
*एक आभपरा अविनाश अमो,भाळु मित भळके भाण,*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,आछट दई वायु आण*

*(28-07-2019)*

*भयो चंद्र पर भान,भयो अधुनिक भुवन भल,*
*भयो दैव नही भान,जयो वैज्ञान कह्यो जल,*
*भयो आप नही भान,पयो नही मात गुण पल,*
*भयो जाप नही भान,थयो पापे प्रमाण थल,*
*है परमेश्वर तू  हयात,आ धर मन अवडा आट,*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,घड़जो मित नवणा घाट,*

*(29-07-2019)*

*नारायणहर नाम,सकळ संतोष समावे,*
*नारायणहर नाम,भरम ब्रह्मांड भगावे,*
*नारायणहर नाम,विकट में वीर व्रतावे*
*नारायणहर नाम,पुर्ण हर रोग पतावे,*
*जपता नारायण जापने,सरजावे मेहूल सुख,*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,दरी नाखे मित भव दुःख*

*(30-07-2019)*

*जटा धुरंधर जोग,समानी बेय भया सज,*
*एक धरा एक आभे,केसरी काळ तणा कज,*
*भुरी जटा भगवान,रमण आभे राजत रण,*
*एक जटाधर आन,वरहतो घे घे गिरी वण*
*नभधर पोषण नारायणा,डणके मित डालामथ्थ*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,बहोळा गण भरता बथ्थ,*

*(31-07-2019)*

*झळळळ आभे जोर,कळळ कळ ग्रजत आभ कड़ी,*
*खळळ नीर सम खोर,अळळ वसु धळळ आफडी,*
*थळळ थाय थडकाट,भळळ भेकार भुवन भरे,*
*झळळ जोर जळकाट,झरर अंगार धर झरे,*
*कैलाश नाथ मित कॉपियों,इ हल्यो हिमालय तेज,*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,आ धरासुर तांडव एज*


*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

25 जुलाई 2019

समाज सेवक श्री विरमजी देथा

समाज सेवक श्री विरमजी देथा 


PDF FILE :- Click Here

अवनवी माहिती, चारणी साहित्य , रचनाओ, ऑडियो , पुस्तक, तेमज अपना विस्तारना धार्मिक प्रसंग, समाचार  मोकली सहकार आपवा विनंती 



Email - vejandh@gmail.com

WhatsApp No - 9913051642


अवनवा समाचार, माहिती, जोब समाचार अने साथे चारणी साहित्य (जेमां काव्य,छंद, ऑडियो, बुक वगेरे....) स्वरूपे बधा सुधी पहोचे ते माटे Broadcast लीस्ट बनाववामां आवेल छे

जो तमने पण Broadcast लीस्ट मां जोडाववो मांगता होय तो आ नंबर 9913051642 सेव करी आपनुं पुरू नाम अने सरनामुं लखी मेसेज करो ऐटले टुंक समय मां ज आपने अपडेट ना मेसेज मळता थई जाशे.

आ Broadcast नो हेतु ऐटलो ज छे  वधारे चारणो सुधी माहिती पहोंचे अने उपयोगी थाय ऐ माटे आपना सहकार नी अपेक्षा छे.

खास नोंध :- आपना नंबर कोई ग्रुपमां ऐड करवामां नही आवे परंतु पर्सनल आपने मेसेज आवशे जेनी नोंध लेवा विनंती

                         सहकार बदल आपनो आभार
                               

                               वंदे सोनल मातरम

21 जुलाई 2019

|| सूर्यवंदना छप्पय || || कर्ता मितेशदान गढ़वी ||

*🙏सुर्यवंदना🙏*

*🌞(11-07-2019)🌞*

*जोइ अमोना जाप,पाप हर जगत पितामह*
*जोइ अमोना जाप,श्राप जे कोइ सभै सह*
*जोइ अमोना जाप,तोड़ हर पाप तपावो*
*जोइ अमोना जाप,दिनंकर जगत दिपावो*
*अमर विश्व पर नजर एक,जोवत सौ कवियन जाप*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,अमृत मित फल उण आप*

*(12-07-2019)*

*खेडण आभ खमीर,अरक आभै नित आवे,*
*खेड़ण आभ खमीर,पुंज धर पाठ पठावे,*
*खेडण आभ खमीर,पाप दर पुण्य पमावे*
*खेडण आभ खमीर,जन्म पर जीत जमावे*
*धरणीधर वंदन धनधणी,अमरत घुंट दियो आप*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,जपिया मित समरण जाप*

*(13-07-2019)*

*प्रथम धरा पर प्रित,किरण वरणीत कलाधर,*
*प्रथम धरा पर प्रित,अखर अवनीत अजरवर,*
*प्रथम धरा पर प्रित,सृस्टि सौगम नर सारे,*
*प्रथम धरा पर प्रित,अति वृष्टि नही आरे,*
*भगवान जदे तू भवपरे,अमियल भव प्रीत उजार*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,भव तरिया मित हर भार*

*(14-07-2019)*

*जरा आभ थीय जो,धरा तुज तापे धसती,*
*जरा आभ थीय जो,करा सम किरणे कसती,*
*जरा आभ थीय जो,खरा बल ताप खलकमा,*
*जरा आभ थीय जो,जरा पळ धरा झलकमा,*
*हाल जराय वरसाव हवा,ने हवे व्रसावो हेम,*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,काश्यप मित    ठरतो केम ?,*

*(15-07-2019)*

*परिस्थितिओ ना पुर,सदा आवे ने जावे,*
*दमन लगे जब दूर,अमन कज आप ही आवे,*
*रूप अलग पणी रीत,काज तु झटपट करतो,*
*नवतम्मो हर नीत,भरण पोषण सुख भरतो,*
*काश्यपसुत तोरा कामणे,जीवतुय रहतु आ जग्ग*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,रस तेज भरी  मितरग्ग*

*(16-07-2019)*

*राम रिदय नू राज,आज तुज पर आधारी,*
*राम रिदय नू राज,सदा सुर ध्यान कु सारी,*
*राम रिदय नू राज,दीपाव्या धर देवळीया,*
*राम रिदय नू राज,फलक परकाशी फळिया,*
*जिण राम समो परकाश जगे,इण आतम जीव नीं आस*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,काटे मित हर कंकाश*

*(17-07-2019)*

*जन्म मरण नो जीव,फरी नही पाछो फरतो,*
*जन्म मरण नो जीव,चिता बन आभै चरतो,*
*जन्म मरण नो जीव,सुर संभाळ ते सारी,*
*जन्म मरण नो जीव,भर्यो मित नयने भारी,*
*तपवे हर देह तु तापमे,फरी जीव जरावी फेर*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,जीवन कुट काढ़े जेर*

*(18-07-2019)*

*विश्व तणा वरणाग,सदा तुज चरणे समणा,*
*विश्व तणा वरणाग,अदा कर देव तु अमणा,*
*विश्व तणा वरणाग,त्याग वैराग्य तपस्या,*
*विश्व तणा वरणाग,धर्म आगे तव ध्रस्या,*
*शिखवे हरदम संसारने,रही एक तपस्वी रीत*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,मलता वैराग्य सु मित*

*(19-07-2019)*

*हार जीत ना हाल,सदा अमने शिखवाडे,*
*वरही तप ना व्हाल,आभ थी आपज आड़े,*
*उगतो इ आथमतो,रमतो खेल रमावत,*
*भलो सदा इ भमतो,जरण जग ताप जमावत,*
*जन्म अजय नही जागतो,हर सदा रह्यो नही होय*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,तपिया मित वरिया तोय*

*(20-07-2019)*

*कुंड आभ ना कोड,भुवन पर आव भाणला*
*जुगत कड़ी ने जोड़,ताप परताप तव तणा*
*आप अमारा आज,राज तुही काल रहंता*
*दुरगुण अमणा दाज,काज उपचार करंता*
*वाणलियु वरते वीर वृति,सत बुध मित करे सहाय*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,वादळ तु भेज व्रहाय*


*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

*कवि मित*

16 जुलाई 2019

चारण कवि अविचलदान गढवी

 चारण कवि अविचलदान गढवी

वीडियो भाग - 1 :- Click Here

वीडियो भाग - 2 :- Click Here

वीडियो भाग - 3 :- Click Here

|| गुरु महिमा || || कर्ता मितेशदान (सिंहढाय्च) ||

गुरुपुनम नी दरेक ने तथा मने जेनी पासेथी जे कई शिखवा मळ्यु एवा गुरुजनों ने वंदन,सह शुभकामना



*||🕉 गुरु महिमा 🕉||*
*|| कर्ता : मितेशदान महेशदान गढ़वी(सिंहढाय्च) ||*
*||  छंद : सारसी ||*

*दल भाग जेना दंभ दारी,आभ पद अजवाळीया,*
*तल उंडणा परिणाम तेना,वर्तता सुख वाळीया,*
*परहेज प्रथमें टेक पाळी,पुरण आतम थी परे,*
*समरथ सदाने साथ साचो,एज गुरु मित अवतरे,(1)*

*सरसत समा पथ ज्ञान सारो,ए विचारो आपिया*
*अर्जुन महारथ एकलव्ये,जद गुरु ने जापीया*
*द्रोण ना  हजु दाखलाओ,धरण पर मुख सौ धरे,*
*समरथ सदाने साथ साचो,एज गुरु मित अवतरे,(2)*

*भगवो धरी नही भेख भजता,सुख दियो संसारने,*
*रग वो खरी गुण धरम  रखता,भुलिया भव कुळ भारने*
*दन जीवन दिनकर इ दयाला,तेज बांध्या ए तरे*
*समरथ सदाने साथ साचो,एज गुरु मित अवतरे,(3)*

*नही लोभ मन नही डाट नकरो,काट सतना कर्मनो*
*गुण वाट पकड़ी वात गहरी,धहरी कट्टर धर्मनो*
*जिण सकळ जीवन ताप जोवत,मन तणी माया मरे*
*समरथ सदाने साथ साचो,एज गुरु मित अवतरे,(4)*

*कपिराज नभ चढ़ियो किरण कद आभ फल अमृत कही*
*विदवान बन गियो एज वानर,गजत आभै गुण ग्रही*
*धरियो सूरज गुण धारणानी,फलक रामे दल फरे*
*समरथ सदाने साथ साचो,एज गुरु मित अवतरे(5)*

*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

*कवि मित*
9558336512

11 जुलाई 2019

स्व. श्री बचुभाई गढवीनी 25 पुण्यतिथि

स्व. श्री बचुभाई गढवीनी 25 पुण्यतिथि

समर्थ वार्ताकार श्री बचुभाई गढवी नुं टूंकमां परिचय
नाम :- जीवाभाई रोहडीया (उर्फे बचुभाई गढवी)
पितानुं नाम :- भावसंगभाई रोहडीया
मातानुं नाम :- जीवुबा
जन्म :- ता.21-03-1932
जन्म स्थळ :- देदादरा
अवसान ::- 11-07-1995

वधारे माहिती माटे ::- Click Here

बचुभाई गढवीना स्वर मां ऑडियो डाउनलोड करवा माटे ::- Click Here

||नशो || || कर्ता मितेशदान (सिंहढाय्च) ||

*|| नशो ||*

*न शोह रसो नरशोह  नशो,नर शोय नशो हरशो नहशो,*
*न मोह रसो नरमोह  नशो,जर तोय जतो वरशो जहशो,*
*न तोह रसो नरतोह नशो,वर तोय वतो करशो वहशो,*
*न रोह वशो नवशोह नशो,मित होय असो परसो महसो,*

आ दुनियाना समय मा पण केवो नशो छे,जेनो रस उतरतो ज नथी,जेम नर ने नारी नो,पण जगत नु एक सत्य कोई पति ने  एनी पत्नी नो नशो कोई दी न होई शके ,प्रेम होय पण नशो अलग वस्तु छे,जे साचो नशो फक्त प्रेमिका नो ज होय, संभाळ नो होय,नशोतो कोई ने वस्तुओं नो नशो पण होय,एटले केवानो मतलब नर ने जे शोभे छे एनो पण नशो होय नथी शोभतु एनो पण नशो छे,तोय नशो एवो भाव  छे के माणस एमा हरातो जाय छे जेम डुबे इम हारे,एटले कोई पण नशो नर तारे नही, एटले एने हरशो पण नही,जो तमे नशा ने हरी गया तो ए तमने हरी लेशे,
जेम मोह वधे एम नरमोह(मेढो) थतो जाय,अने लाकडु जेम वधु अग्नि थी प्रेम करे तो लाकडु जरी जाय एम माणस जरी जाय मोह मा तोय जस लेवानी चाहे जरतो जाय छे,वरतो नथी,तोय आ नशो माणस ने नडतो ने नडतो ज,पण माणस जात ज एवी के मुंडाई जाय तोय वही जाय एमा,
माटे ए नशा ने रोह थी वशी लिये,तो माणस ने एक राह चिंधि शके,भले ए छोडता घणाय दिवसों के मास निकडी जाय,,,

*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

*मित*

|| सूर्यवंदना छप्पय || || कवि मितेशदान (सिंहढाय्च) ||

*|| 🌞सूर्यवंदना🌞 ||*
*|| कर्ता : मितेशदान महेशदान गढ़वी(सिंहढाय्च) ||*
*|| छप्पय ||*

*🌞(01-07-2019)🌞*

*तप्प समो बळ ताप,दैव ऋषियन को दार्यो,*
*तप्प समो बळ ताप,खलक दरिया सम खार्यो,*
*तप्प समो बळ ताप,महा रगतासुर मार्यो,*
*तप्प समो बळ ताप,त्रिकुटधर लोकन तार्यो,*
*सम ताप वधु बल श्राप सुरों,जिण महिमा सकल जणाय,*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,गुण मित नित प्रहरसु गाय*

*🌞(02-07-2019)🌞*

*जयति नाथ सुर जगत,पवन गति बांध प्रलंबी,*
*जयति नाथ सुर जगत,किरण नाखेय कसुंबी,*
*जयति नाथ सुर जगत,भगत विनवे सुण भाणा,*
*जयति नाथ सुर जगत,प्रित मुज प्राण पिराणा,*
*जगनाथ जीवन अम जागतु,तव थिय जीवन तन मोल,*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,आप्यू मित पद अनमोल,*

*🌞(03-06-2019)🌞*

*चंदन चित्त चकोर,कोर छेडो दल कारी,*
*चंदन चित्त चकोर,पोर  पड़ता पतहारी,*
*चंदन चित्त चकोर,उभय अम आरद आशी,*
*चंदन चित्त चकोर,किरण दर्शन अम काशी,*
*हेताळ हृदय थी व्हालहया,दे चंद शितलता दान*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,मन मोभी मित परमान*

*🌞(04-07-2019)🌞*

*प्रगट्या पेहला पुंज,धरा करणावत धाम्यो,*
*प्रगट्या पेहला पुंज,जश्न जगनाथे जाम्यो,*
*प्रगट्या पेहला पुंज,रही तियार जे रथडे,*
*प्रगट्या पेहला पुंज,महा रथ राख्यो मथडे*
*रणछोड चढी रथ राणजी,संगे नभ सुरज साथ*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,साचो मित पथ संगाथ*

*🌞(05-07-2019)🌞*

*आप भरोसे आज,अमो रहता अजवाळे,*
*आप भरोसे आज,जीवन बाध्यु जग जाळे,*
*आप भरोसे आज,श्वास चाले सथवारो*
*आप भरोसे आज,अधम अवनी तल आरे*
*भवनाथ भरोसो भान भलो,गुण नाथ अमो गुरुदेव*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,हरी हर मित करणो हेव*

*🌞(06-07-2019)🌞*

*परम ज्ञान परमान,अमन अभिमान उजारो,*
*परम ज्ञान परमान,मति कुट फंद कु मारो,*
*परम ज्ञान परमान,नित्य सुरता तुज नयने,*
*परम ज्ञान परमान,चित्त पर्वत सम चयने,*
*तुज ज्ञान प्रमाणन तारते,आ तमस चड्यू जे तन*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,महेक्यु मित धरणु मन*

*🌞(07-07-2019)🌞*

*विध्या पद विदवान,जड़धरा विना न जोगी,*
*विध्या पद विदवान,भवन पर बन्यो न भोगी,*
*विध्या पद विदवान,अखिल ब्रह्माण्ड ग्रही ए,*
*विध्या पद विदवान,जगत मुल आप कड़ी जे,*
*सुर जिह शारद मात सूणो,तुह विध्या अवनी तेज*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,सविनय मित विनवू सेज*

*🌞(08-07-2019)🌞*

*भाव भर्यो भगवान,मृदु हय कोमल मन्नो,*
*भाव भर्यो भगवान,प्रहर पळ बदले पन्नो*
*भाव भर्यो भगवान,नित्य सद करम नितारे*
*भाव भर्यो भगवान,चहकतो लोक चितारे*
*कोमल चित भावे किरणवसु,रूदिया सुख भरियन रीत*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,मन समरण साचोय  मित*

*🌞(09-07-2019)🌞*

*अस्त न थाता आप,भले जग राखे भ्रमणा,*
*अस्त न थाता आप,रहत आभै घुम रमणा,*
*अस्त न थाता आप,सुवे जग निशा सहारे,*
*अस्त न थाता आप,निशा तुही नयन निहारे,*
*तुज नयन सदा खुल्ला तपेय,नही सोवत जग ने न्यार*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,समजो मित जगरूप सार*

*🌞(10-07-2019)🌞*

*वसु विधान कर वरळ,सु भट चळ मनु उदात सर*
*वसु विधान कर वरळ,प्रगट घट नभ जल थल पर*
*वसु विधान कर वरळ,हंस ब्रह्मांड हयाते*
*वसु विधान कर वरळ,अंश परिधान उदाते*
*दल उदध भर्यो धर देव ते,शगति तव करे अम साय*
*पट निहर प्रौढ़ अवनी परे,भगति सूरमित भवनाय*


*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

*कवि मित*

9 जुलाई 2019

प्राचीन श्री शेषावतार श्री रावळपीर दादाना पुनः निर्मित मंदिर पुनः प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव

प्राचीन श्री शेषावतार श्री रावळपीर दादाना पुनः निर्मित मंदिर पुनः प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव

ता.10-07-2019, बुधवार तथा ता.11-07-2019, गुरुवार





8 जुलाई 2019

આદિપુર ખાતે પ્રાથમિક શિક્ષણ માટે માર્ગદર્શન સેમિનાર યોજાયુ.


આદિપુર ખાતે પ્રાથમિક શિક્ષણ માટે માર્ગદર્શન સેમિનાર યોજાયુ.

            તા.૦૭-૦૭-૨૦૧૯ના રોજ આઈશ્રી સોનલ માતાજી મંદિર, શ્રી આદિપુર ગઢવી સમાજવાડી, વોર્ડ ૧-એ, આદિપુર ખાતે આપણા બાળકોના મુલ્યોનો ઘડતર થાય તે વ્યવાહર કુશળ બને તે ખુબ જરૂરી છે. અને તેના માટે તેને યોગ્ય માર્ગદર્શન અને સાચુ શિક્ષણ મળે એ માટે આદિપુર, અંજાર, ગાંધીધામના ચારણ ગઢવી સમાજના વિધાર્થીઓ માટે પ્રાથમિક શિક્ષણ સેમિનારનું આયોજન કરવામાં આવેલ.

            ગઢવી સમાજના દિકરી દિકરાઓનું પ્રાથમિક શિક્ષણનું સ્તર કાચુ ના રહે તેમનો પાયો મજબુત બની રહે તે હેતુથી આ સેમિનાર યોજાયેલ. જેમા શ્રી ભરતભાઈ ધોકાઈ (સંચાલક શિશુ મંદિર ગાંધીધામ) દ્રારા માર્ગદર્શન આપવામા આવેલ. તેમજ આ અવસરે દેવલ માં તથા સમાજના આગેવાનોના હસ્તે વૃક્ષારોપણ કરવામાં આવેલ. તેમજ શ્રી મોમાયાભા ગઢવીની અખિલ ભારતીય ચારણ (ગઢવી) મહા સભા યુવા સંગઠન ના રાષ્ટ્રીય અધ્યક્ષ તરીકે વરણી થવા બદલ આદીપુર , ગાંધીધામ, અંજાર, ચારણ સમાજ તેમજ સોનલ શકિત મંડળ,  મેઘપર બોરીચી તથા આદીપુર પુર્વ  પ્રમુખ શ્રી માણશીભાઈ કરશનભાઈ ગઢવી પરીવાર દ્વારા દ્વારા વિશિષ્ટ સન્માન કરવામાં આવ્યુ હતું.

            આ અવસરે આઈશ્રી દેવલ માં (ભાડા) સવની વેરાવળ, શ્રી મોમાયાભા પી.‌ગઢવી (પ્રમુખશ્રી અખિલ ભારત ચારણ (ગઢવી) મહાસભા યુવા સંગઠન),  શ્રી હરીભા વિશ્રામ ગઢવી (પ્રમુખશ્રી સમૂહલગ્ન સમિતિ ગાંધીધામ), રાજભા નારાણભા ગઢવી (મહામંત્રી,સમૂહલગ્ન સમિતિ ગાંધીધામ) જીતુભાઈ પી ગઢવી (પ્રમુખ શ્રી ગીર,બરડો અને આલેચ ચારણ સમાજ), જગદીશભા ગઢવી (કાર્યકારી પ્રમુખ શ્રી ગઢવી ચારણ યુવક મંડળ ગાંધીધામ) રઘુવીરભા એસ.ગઢવી (પ્રમુખ શ્રી ગઢવી ચારણ સમાજ અંજાર) મુરજીભાઈ ડી. ગઢવી (ઉપ પ્રમુખશ્રી ગઢવી ચારણ સમાજ અંજાર) રામભાઈ (એડવોકેટ અને નોટરી) મહીદાનભાઇ, જીગરભા ગઢવી , બળવંતભાઇ ખડીયા,  વિરમભાઇ સંઘડિયા તથા ચારણ સમાજ આદિપુર ની સમગ્ર  ટીમ.  સહિત સમાજના આગેવાનો તેમજ બહોળી સંખ્યામાં સ્થાનિક લોકો ઉપસ્થિત રહેલા.

            આગામી દિવસોમાં આદિપુર, અંજાર અને ગાંધીધામ શહેરમાં અભ્યાસ કરતા ધોરણ- ૪ થી ૯ સુધીના વિધાર્થી માટે નિ:શુલ્ક (ફ્રી) ટયુશન કલાસીસ ચાલુ કરવામાં આવશે. તેમજ આદિપુર ખાતે શરૂ થનાર ટ્યુશન કલાસના ખર્ચના મુખ્યદાતા શ્રી મોમાયાભા ગઢવી (પ્રમુખશ્રી અખિલ ભારત ચારણ (ગઢવી) મહાસભા યુવા સંગઠન)
            આ સેમિનારને સફળ બનાવવા માટે અંજાર, આદિપુર, ગાંધીધામના આગેવાનો અને યુવા ટીમ જહેમત ઉઠાવેલ.
           
સમગ્ર કાર્યક્રમનું સંચાલન શ્રી વીપુલભાઇ એલ. ગડદિયા (મહામંત્રી શ્રી ગઢવી ચારણ યુવક મંડળ ગાંધીધામ) સાથે વિરમ સંઘડિયા (આદિપુર) કરેલ.

                               વંદે સોનલ માતરમ્













मळवा जेवा मानवी - सामतभाई गढवी

मळवा जेवा मानवी - सामतभाई गढवी (Angel Academy, Gandhinagar)
संदर्भ :- आईश्री सोनल मा एज्यूकेशन चेरीटेबल ट्रस्ट, राजकोट द्रारा प्रकाशित चारण संस्कृति अंक-34 मांथी






PDF :- Click Here

6 जुलाई 2019

प्राथमिक शिक्षण मार्गदर्शन सेमिनार - आदिपुर कच्छ

प्राथमिक शिक्षण मार्गदर्शन सेमिनार - आदिपुर कच्छ

कच्छना चारण युवाने ओटोमेशन स्वीचनो कर्यो आविष्कार

कच्छना चारण युवाने ओटोमेशन स्वीचनो कर्यो आविष्कार 
नाम :- विशालभाई करशनभाई गढवी 
गाम :- काठडा ता. मांडवी - कच्छ 
हाले :- भुज -  कच्छ 
संपर्क नंबर :- 7016709409

खूब खूब अभिनंदन विशालभाई 




5 जुलाई 2019

चारण संस्कृति अंक-35

चारण संस्कृति अंकनी माहिती

चारणी साहित्य अने लोकसाहित्य द्रारा संस्कार अने संस्कृतिने जाळवी राखवा प्रयत्न करतुं मेगेझीन ऐटले चारण संस्कृति

आईश्री सोनल मां ऐज्युकेशन ऐन्ड चेरीटेबल ट्रस्ट-राजकोट द्रारा प्रकाशित चारण संस्कृति अंकनी माहिती
त्रिमासिक अंक छे

जान्युआरी/ऐप्रिल/जुलाई/ऑकटोम्बर नी पहेली तारीखे प्रकाशीत करवामां आवे छे
डाउनलोड :- अंक - 35  (जुलाई-19) Click Here

तंत्रीश्री रामभाई जामंग

सह संपादक :- विश्वास शुकल 

लवाजम :-
रू.500 /- (पांच वर्षनुं)

चारण संस्कृति अंकनी लवाजम भरवानी माहिती
(1) रूबरू
चारण संस्कृति कार्यालय, मुळजीभाई के.लांबा, चारण वाडी, सुखरामनगर-2, कोठारीया चोकडी, राजकोट
(2) बेंक/चेक/मनीऑर्डर
नाम :- आईश्री सोनल मां ऐज्युकेशन ऐन्ड चेरीटेबल ट्रस्ट-राजकोट
बेंक :- बेंक ऑफ ईन्डीया (युनिवर्सीर्टी रोड राजकोट)
खाता नं :- 312710210000008
(नोंध :- जमा/चेक/मनीऑर्डर थी जमा करावी तेनी जाण योगेशभाई (9978442765) अथवा जयुभाई पालीया (9898501236) करवी)

लवाजम माटे संपर्क :- नानुभा नैया (8469497853)
चारण संस्कृति अंकना जुना अंको डाउनलोड करवा माटे⤵⤵
www.sonalmaatrust.org

चारण संस्कृति मुखपत्रनो हेतु अने भावना ऐवी छे के वधारेमां वधारे परिवारोना घरे पहोंचे अने वंचातु थाय तो आप अन्य परिवारोने जाणकारी आपीने ग्राहक बनावो

चारण अंक द्रारा चारण समाज माटे साहित्य , अवनवा समाचार, वगेरे माहिती आपवा मां आवे छे
दरेक चारणो आ अंकनी लवाजम भरी अवश्य चारण संस्कृति अंक मगाववा विनंती


चारणी साहित्य ब्लॉगना अपडेट WhatsApp पर मेळववा माटे

અમારો નંબર તમારી સંપર્ક સૂચિમાં દાખલ કરો અને 'સ્ટાર્ટ' (START) ,નામ અને સરનામુ લખીને મેસેજ મોકલો હવે તમને સમાચાર મળવા શરુ થઇ જશે. કેટલું સરળ !




Get On WhatsApp Update :- Click Here 

अवनवी माहिती, चारणी साहित्य , रचनाओ, ऑडियो , पुस्तक, तेमज अपना विस्तारना धार्मिक प्रसंग, समाचार  मोकली सहकार आपवा विनंती 




Email - vejandh@gmail.com

WhatsApp No - 9913051642


अवनवा समाचार, माहिती, जोब समाचार अने साथे चारणी साहित्य (जेमां काव्य,छंद, ऑडियो, बुक वगेरे....) स्वरूपे बधा सुधी पहोचे ते माटे Broadcast लीस्ट बनाववामां आवेल छे

जो तमने पण Broadcast लीस्ट मां जोडाववो मांगता होय तो आ नंबर 9913051642 सेव करी आपनुं पुरू नाम अने सरनामुं लखी मेसेज करो ऐटले टुंक समय मां ज आपने अपडेट ना मेसेज मळता थई जाशे.

आ Broadcast नो हेतु ऐटलो ज छे  वधारे चारणो सुधी माहिती पहोंचे अने उपयोगी थाय ऐ माटे आपना सहकार नी अपेक्षा छे.

खास नोंध :- आपना नंबर कोई ग्रुपमां ऐड करवामां नही आवे परंतु पर्सनल आपने मेसेज आवशे जेनी नोंध लेवा विनंती

                         सहकार बदल आपनो आभार
                               

                               वंदे सोनल मातरम

Sponsored Ads