.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

31 अक्तूबर 2017

मोटा भाडिया गाम नुं गौरव - कबड्डी मां रनर्स अप

मोटा भाडिया गाम नुं गौरव - कबड्डी मां रनर्स अप

आजे ता.31-10-2017 ना रोज भावनगर खाते खेल कुंभ-2017 राज्य कक्षानी कबड्डी योजायेल जेमां मोटा भाडिया प्रा.शाळा (ता.मांडवी-कच्छ) नी कन्या टीम रनर्स अप अंडर-14

टीमना सर्वे खेलाडीओ तेमज शिक्षकश्रीओने खूब खूब अभिनंदन

राष्ट्रीय कक्षानी कबड्डी टीम मां मोटा भाडिया प्रा.शाळा टीम नी 5 कन्या खेलाडीओ राष्ट्रीय कक्षा माटे पसंद थयेल छे

||रचना:त्रिपुटी तंत्र || || कर्ता:मितेशदान गढवी(सिंहढाय्च) ||

*||रचना : त्रिपुटी तंत्र ||*
*||छंद : दुर्मिळा ||*
*||कर्ता : मितेशदान महेशदान गढवी(सिंहढाय्च) ||*

भृष्ट देश महि भ्रस्ट तंत्र महि भृष्ट सभे सरकार फरी,
अति दुस्ट किया षड्यंत्र कुळी  परजा सुख लूटण वाट वरी,
सत्ता सबळी नबळी वत्ता  सत्ता मकळी सम जाल जड़े,
अवळा मुख काम करे सवळा की सत्ता लोभन काट चडे,(१)

अदकाई समु रूप एज सरे अधिकार पणे अवडाई करे,
कुळ देह नही मन मान धरे,
मुख वाक कुळा सनमान हरे,
शबदे शबदे मत हाथ लिए रज कारण खेल प्रकार पड़े,
अवळा मुख काम करे सवळा कु सत्ता लोभन काट चडे,(२)

लपटावेय लालच शब्दभाखी नव सत्तायू हथ काबू कर दे,
अर्थांकीय बाबत राज समय को राज बनावट में भर दे,
नह देख गरीबी और अमीरी पैसो एकज हाथ लडे,
अवळा मुख काम करे सवळा कु सत्ता लोभन काट चडे,(3)

कही रॉड कही पर डेम कही पर जनता से बनवाया है,
कही चोर कही पर लूंट कही नारी का मान गवाया है,
परीत्याग नही बलिदान जवानों पर भी सत्ता प्राण बड़े,
अवळा मुख काम करे सवळा कु सत्ता लोभन काट चडे(4)

अकड़ाट समा अह्रींमान  ते आफत देख समुख निराश हुते,
नही देख ऊंचे पद कोही कही ऊपरी सब देखत दैव दुते,
कह *मीत* सुधार तू  रीत सता तुज आन बताव क्यों लाज पड़े,
अवळा मुख काम करे सवळा कु सत्ता लोभन काट चडे(5)

*(अह्रींमान-भगवान नी विरुद्ध जानार)*

*(पाँचमी कड़ी नो अर्थ: एक अधिकारी ने ऊपरी अधिकारी कदाच एने एना लोभ खातर कढ़ी पण मुके पण जे साउथी ऊपरअधिकारी रहे छे जे साक्षात ईश्वर छे तेने कोई वात नो लोभ नै होय ते  सर्व जुवेछे,माटे ए सत्य जोई ने निर्णय लेसे माटे सत्ता ना सेवक तने जे सत्ता मळी छे तेनो उपयोग जनहित मा कर तो प्रजा अने हरि बेय राजी रेसे,तारी सत्ता थी खोटा कार्य करावी  तंत्र ने लाज न लगाड,पण आन बान शान वधे एवा कार्य कर)*

*🙏~~~मितेशदान(सिंहढाय्च)~~~🙏*

*कवि मीत*

30 अक्तूबर 2017

साता प्रकरण चारणो की रेली का अहेवाल

साता प्रकरण चारणो की रेली का अहेवाल

सर्व समाज का बहुत बहुत हार्दिक आभार ।।
साता प्रकरण में सत्य का साथ देने के लिए समस्त 36 कोम का तह दिल से समस्त चारण समाज साधुवाद करता ।।
और चारण समाज हमेसा से आपका आभारी रहेगा
सत्य की छोटी सी पुकार पे चारण समाज अपना सर्बत्र बलिदान कर देगा
में आपसे वादा करता हु ।।
उसके बाद में सबसे पहले dr. बाबुदान जी एवं भवँर जी साता , नरेश जी देवल और समाज के जिम्मेदार और मौजिज बन्धुओ का तह दिल से हार्दिक      आभार  ।।
जिन्होंने अपना अमूल्य समय निकाल कर सत्य और 36 कोम के भरोसे को सोसल नेट वर्क के माध्यम से कायम रखा ।।
और अपनी सादर उपस्थति देकर सत्य का साथ दिया ।।
एक बात कहना चाहता की साब जिस मंच से मागिदान जी वक्ता बन कर बोल रहे हो वहाँ पर स्वयम सरस्वती और सत्य विराजता हैं ।।
अपनी ओजस्वी भासा से चारणों की सस्कृति एवम सभ्यता का बखान करने वाले युवा नेता राजेद्र जी भियाड़ का भी में सुकर गुजार करना चाहता हु ।
और इनसे चारण समाज सदैव  ही ये आसा रखेगा
की जब भी चारण और सत्य की बात होगी तब राजपूतो का नाम ससम्मान से लिया जाएगा ।।
उसके बाद श्री देशनोक की पवित्र धरा से पधारे युवा नेता भाई हरीदान ने अपने विचार रख कर कहा कि सत्य परेसान करता पर परेसान कदाचित नही उनका भी तह दिल से आभार ।।
उसके बाद हाजी करीम खान का आभार जिन्होंने हिन्दू मुस्लिम छोड़ सत्य की रहा को परखा और अपनी समाज को भी इस सत्य की लड़ाई में में न्याय का साथ दिया ।।
उसके बाद पूर्व सरपंच शेखराम जी बीजा सर का भी हार्दिक आभार जिन्होंने अपनी समाज के साथ खड़ा होकर कहा भी जहा देवीपुत्रो का निर्दोष फसाया जा रहा है हम आपके साथ हैं ।।
माँ भगवती के उपासक कविवर श्री जयेश जी गढ़वी का साधुवाद जिन्होंने अपने कंठ में विराजित माँ सरस्वती के आहवाहन के रूप में चारण कौन है माँ जगदम्बे  को साक्षी मानकर परिभासित किया ।।
और कहा कि जहाँ भी अन्याय होगा देवीपुत्र अपनी वाणी से सबसे पहले आवाज उठाएगा ।।
धन्य हैं वो धरा और जननी जिसने भाई जयेश गढ़वी को जन्म दिया और सदैव चारण समाज इन पर गर्व करेगा ।।
उसके बाद अपने रुधित गले से श्री मान भरत दान जी तरला ने पूरी प्रकरण की कहानी बताकर कहा जी एक बेगुनाह को कैसे राजनीति एवम भुजबल के आधार पर कैसे हत्या के धारा302 जो आजीवन कारावास में फसाया जाता है ।।
उसके बाद मेघवाल समाज के अध्यक्ष हुकमा राम जी का भी साधुवाद जिन्होंने कहा कि देवतुल्य चारण समाज हमसे से सत्य व संविधान की पालना में अपने सत प्रतिसत योगदान देता हैं उनको भी एक गदी राजनीति के तहत एक संगीन अपराध में बेहगुनाह फसाया जा रहा है ।।
उसके बाद बलराम जी प्रजापत ने अपनी बात में बताया कि हमने जो जसवंत जी जसोल को ठुकरा कर गलती की उसका आज यह परिणाम हैं जब चारण समाज को इस तरह गुमराह किया जा रहा है जो समाज हमेंसा से सत्य का पुजारी रहा है ।।
राजपुरोहित समाज के अग्रणी वक्ता श्री राम सिंह जी बोथिया ने अपनी मायड़ भासा से चारणों ने समय - समय पर किस प्रकार से सत्य का साथ दिया हैं विस्तृत रूप से बातया और इन्होंनो कहा कि जहाँ सत्य को आंच आएगी वहाँ राजपुरोहित समाज अपना सम्पूर्ण रूप से सर्मथन करेगा ।।
राम सिंह जी का भी तह दिल से सुक्रिया ।।
उसके बाद श्री रूपसिंह जी राठौर ने कहा कि माँ करनी जी महाराज की हमेसासे राठौर पर विशेष किरपा रही हैं ।।
आज उसी करणी माँ के पुत्रों पर विपदा की घड़ी हैं में पूरे चोहटन राठौर समाज की और से देवतुल्य जाति की अस्मिता पर हमारे जीते जी संकट नही आने दूँगा ।
और तन मन धन से सहयोग करेंगे ।।
राठौर साब का तह दिल से आभार  माँ भगवती इनको सदैव सुखी रखें ।।
बाखासर से पधारे श्री मान रतन सिंह जी ने चारणों के इतिहास को साक्षी मानकर कहा की अगर जाटो को देवतुल्य समाज पे भरोसा नही है तो में अपने पुत्र की कसम खाता हूं और महात्मा ईश्वरदास जी की पवित्र धरा पे दावे के साथ कहता हूं कि अगर तेजदान जी का इस  घटना से कोई लेना देना हो तो मेरा कल का सूरज उदय ना हो ।।
आभार श्री मान रतन सिंह जी का जिन्होंने चारणों की मान व समान का अपने सिर के साफे से भी उच्चा रखा ।।
उसके बाद रणजीत सिंह जी खुड़ी का आभार जिन्होंने मानवेंद्र सिंह जी (शिव विधायक) की अनुपस्थिति को उपस्थिति में बदल दिया और कहा कि जब तक राजपूतो में जान हैं तब तक माँ भगवती की उपासक जाती को को आंच भी नही आने दुगा और उन्होंने आभार जताया कि चारण हमेसा से राजपूतो के पक्षधर रहे है और आगे भी रहगे ।।
और आज अगर राजपूत समाज ने इस अन्याय के खिलाफ साथ नही दिया तो हमे पूरा जीवन एक अभिशाप बन कर जीना पड़ेगा ।।
उसके बाद गुजरात चारण सभा के अध्यक्ष विजय भाई गढ़वी ने अपनी सुशोभित वाणी से कहा की हम गुजरात से इसलिए पधारे हैं कि जहाँ सत्य( चारण) को एक राजनीति का शिकार बनाया जा रहा है ।।
और उनके खिलाफ सरासर अन्याय किया जा रहा है ।।
विजय भाई साब का भी तह दिल से दिल की गहराइयों तक साधुवाद ।।
उसके बाद हमारे देवतुल्य समाज के लोक सभा के प्रथम सदस्य के पुत्र श्री मान दिनेश जी गढ़वी साब ने कहा कि मेरे पापा श्री कहा कि बेटे हमसा से सत्य का ही साथ देना और सत्य की रहा पर चलने वाले चाहे कोही भी हो उनका हमेसा मान समान रखना ।।
आज में इस मारवाड़ की माटी को साक्षी मानकर कहता हूं कि में अपने पापा के कर्तव्यों का पूरी निष्ठा के साथ पालन करुगा ।।
और आभार आपको जो आपने मुझे यहां बुलाकर मेरा समान किया में सदैव आपका आभारी रहूंगा ।।
एक छोटे से आहवाहन पर बाड़मेर पधारने पर श्री सुखदेव जी गोगामेड़ी का बहुत बहुत आभार और माँ करणी जी इनको दीर्घ आयु प्रदान करे ।।
इन्होंने अपनी ओजस्वी वाणी से कहा कि साब जब तक इस संसार मे एक भी राजपूत जिंदा हैं तब तक सत्य की पहचान देवतुल्य चारण समाज की अस्मिता पर संकट के बादल कभी भी मडराने नही दूँगा ।।
और वादा करता हु की आप की हर छोटी सी सत्य की लड़ाई में हर समय तैयार रहूंगा और इन्होंने विपक्ष के नेताओ को कहा कि ये राजनीति की मैली चादर ओढ़कर क्यू किसी से खिलवाड़ करते हो
दम हैं तो सामने आयो ।।
उसके बाद उमरदराज चारण समाज के सिरोमोर व चारण महासभा के अध्यक्ष श्री मान C.D deval  साब ने अपनी वाणी से इस सत्य की रहा के मेले को चार चांद लगा दिए और कहा कि चारण हमेसासे से ही सत्य की पहचान रहा हैं ।।
और अंतिम सब्दो में में बाड़मेर की युवा टीम को धन्यवाद देना चाहता हु की जिन्होंने अपना सत प्रतिसत योगदान देकर इस सत्य के असवमेघ यज्ञ को पूर्ण सफल बनाया ।।
जिस समाज मे युवा सक्ति इतनी सजग हैं वो समाज ही आगे बढ़ सकता हैं 
देवल साब का बहुत बहुत आभार ।।
अंतिम सब्दो में कुसम जयपाल जी का और तनुजा जी का भी आभार जिन्होंने अपनी उपस्थ्ति देकर मंच की गरिमा को नई उचाइयां दी समाज इन पर सदैव गर्व करें और बालिका शिक्षा को भी बढ़ावा दे
रैली के अंतिम छणों में जो 36 कोम ने सन्ति एवं सोहदपूर्ण ,एकता का परिचय दिया ऐसा लग रहा था कि कोई देवता खुद जमीन पर उतरकर देवतुल्य चारण समाज की सत्य की गवाही दे रहा हैं।
और अंतिम समय मे वो व्यक्तित्व आया जिस देख के लग रहा था कि मानो सत्य की असली मुस्कराहट ही यही है पर राजनीति के शिकार चेहरा मानो ये कहा रहा था कि ...... में बयां भी नही कर सकता हु में बात कर रहा हु श्री तेजदान जी की जिन्होंने कहा कि अगर मुझे पर विस्वास ना हो तो श्री मान गजेसिंह जी बाखासर की गवाही या कसम ले लो पर वो कब मानने वाले ।।
तेजदान जी के हरेक सब्द में अन्याय की पीड़ा साफ झलक दिखाई दे रही थी

माँ भगवती सदैव सत्य की सहाय करे 
आज के इस सत्य के महायग को सफल बनाने के लिए  36 कोम का साधुवाद  ।।
आशा से आपका हितेशी
surya padam charan

मतदारयादी सुधारणा कार्यक्रम-2017

मतदारयादी सुधारणा कार्यक्रम-2017

मतदारयादी मां नाम न होय तो नोंधाववा माटे नी वधु ऐक तक

फॉर्म भरवानी छेल्ली ता.10-11-2017

29 अक्तूबर 2017

|| चरज: मोगल तु मीठड़ी माईरे || || कर्ता: मितेशदान गढवी(सिंहढाय्च) ||

*||रचना : मोगल तू मीठड़ी माई रे ||*
*|| कर्ता: मितेशदान महेशदान गढवी(सिंहढाय्च) ||*
*|| चरज ढाळ: भजा तूने भेळीयावाळी रे ||*
मोगल तू मीठडी माई रे,राणेसर मात रवराई रे,
नमू तूने शीश नमाई रे,मोगल तू मीठडी माई रे,(टेक,)
काळ माथे कुळ कापीयू माँ ते वेर टार्या मूळ व्याप,
है,,सत वाटे गुण चारणो साथे,आइ नामु अखियात,
शीतळता नु हेत समाई,नमू तूने शीश नमाई,
मोगल तू मीठड़ी माईरे,राणेसर मात रवराईरे,(१)
भांगिया भुंडा लोभ भवोना,ने भंड घेला
घोळी भान,
है,,दैवी दया कर दुखियारा,ने देय मीठा छौल दान,
वारु कर वेद वरदाई,नमू तूने शीश नमाइ,
मोगल तु मीठड़ी माई रे,राणेसर मात रवराई रे,(२)
घोर समे घमसाण घेराणु,आ लोक थयो लजवाण,
है,,पापीओ ने दई धाह पछाडी,पुर तारु परमाण,
आवो अवतार लै आई,नमू तूने शीश नमाई,
मोगल तु मीठड़ी माई रे,राणेसर मात रवराई रे(३)
वेद ने वारया कोई वर्या नै,भेद भूल्या जे भान,
है,,परचाळी तुज पाय पड्या,जेना मेह वरसाया मान,
गावे *मीत* तुज गरवाई,नमू तूने शीश नमाई,
मोगल तू मीठड़ी माईरे,राणेसर मात रवराई रे,(४)
*~~~मितेशदान(सिंहढाय्च)~~~*
*कवि मीत*
(घेला:गांडपण भर्या  वर्तन,)
(छौल:आनंद)
नोंध: आमा रवराइ एटले रापर वाडी मा रवराइ ने नथी उल्लेख्या
रवराई एटले जेनी नामना  कीर्ति नो कोई अंत नथी अने एनी उन्नति चढ़ावो वध्याज करे छे एवी मा राणेसर नी मोगल दर्शावी छे जे बदल तमने कोई मनथी प्रश्न न रहे ते बदल जाण
धन्यवाद 
*~~~मितेशदान(सिंहढाय्च)~~~*

22 अक्तूबर 2017

कपरा समा कळी काळमां कर्ता चारण कवि देविदान के. गढवी

🙏🙏 *जय आवड मां* 🙏🙏
🙏🙏 *जय सोनबाइ मां* 🙏🙏

      💐 || *छंद हरिगीत* || 💐

अंबा तणा उपासको, यजमानने याचो नहीं...
खोटी खुशामत करी चारण, विरता वेंचो नहीं...
उजळा अमर इतिहासने, उंडे जइ अपनावजो...
कपरा समा कळी काळमां व्रत चारणो संभाळजो...
व्रत चारणो संभाळजो....(टेक)

अन्नजळ विना आराधता, तुं ही मात हे मातेश्वरी...
पुर्वज हता पर दुख भंजन, मारगे जाता मरी...
ए कोटीना सौ चारणो, इ ज्ञाती गौरव राखजो...
कपरा समा कळी काळमां....२

धेनो बिचारी धलवले, धणशेर धमरोळाय छे...
गोंदरा विहोणी गरीब गायो, पाधरे पिडाय छे...
सत् ना सिमाडे चळी चारण, परिब्रह्म पोकारजो....
कपरा समा कळी काळमां.....३

कळेळाट करती कतलखाने, कंइक कवली कपाय छे...
आशाभरी अबळा हवे, वेपारमां वेचाय छे...
अडग थइ त्रागा करी, अन्यायने अटकावजो...
कपरा समा कळी काळमां....४

कमनशीबे कुमारिका, पराये घर पाणी भरे...
श्वरुप नो सणगार पण, अंग उघाडी ए फरे...
बांधव बनी इ बेनने, अंग चुंदडी ओढाळजो...
कपरा समा कळीकाळमां....५

भूख्या गरीबना बाळको, टुकडाने कारण टळवळे...
लंबावता ए हाथने, भुख्या छतां भोंठा पडे...
देवी तणा दानेश्वरो, अग्नि एनी ओलावजो...
कपरा समां कळी काळमां....६

नर मुरख नशो करी चारण, पतन पंथे जाइ तो...
पुंजी तणा प्रलोभमां, लाचार थइ ललचाइ तो...
मां तणा माहेश्वरो, एना बुरा लक्षण बाळजो...
कपरा समां कळी काळमां....७

हरिरस गीताज्ञान नां, आचार उजळा राखजो...
वेदो तणां विरो हवे, आतम चक्षु उघाळजो...
'देवीदान' भभके आग ए, भो मां हवे भंडारजो...
कपरा समां कळी काळमां....८

🌹 *कर्ता -- चारण कवि देविदान के. गढवी* 🌹

💐 *टाइपिंग=राम बी गढवी
नविनाळ कच्छ* 💐
*फोन नं. -- 7383523606*

🙏👏 *वंदे सोनल मातरमं* 🙏👏

21 अक्तूबर 2017

शीव स्तुति रचना कीशोरदान सुरु

शीव स्तुति छंद सारसी

दोहो

शंकर हे समरथपती। वडा देव वीशेष
वंदा पांव विश्वेश्वर। हाथ जोडी हमेश

समरथपती ने सेवजो़। छे देवजो सवेॅश्वरा
प्रख्यात भोलो भोलपण से। प्रणत हे पालेश्वरा
ओ देवना तु देव अवधूत। जब्बर जटाधार छो
कैलास शीखर से नजर कर। धुजॅटी आधार छो

छो काल हुंदा काल शंकर। स्थान जाको मषान को
मुक्ती प्रदाता मलक माथे। आप सौ इनशान को
भुतप्रेत भाषे नीत पासे। हरेक नो हीतवार छो
कैलाश शिखर से नजर कर। धुजॅटी आधार छो

बडदेव दाता शरण जाता। शुभथाता क्षणिक मे
दुखथाय वेता नहीरेता। कहुएता अडीग रे
संसार स्वामी बहुनामी। वीपती हरनार छो
कैलास शीखर से नजर कर। धुजॅटी आधार छो

द्रष्टी परे ज्या महादेवा। सुख ऐवा सांपडे
जे चीत कदीना चेतव्यु। आफरडु आवी पडे
नबलु नीवारी नाखवु। ईमे आपता पुरवार छो
कैलाश शीखर से नजर कर। धुजॅटी आधार छो

पारवतीना पती प्यारा। नाथमारा हीयबसो
टालो उदासी दाशखाशी। बातसाची मानशो
कीशोर भावे गुण गावे। देव खरो दातार छो
कैलाश शीखर से नजर कर। धुजॅटी आधार छो

रचना कीशोरदान सुरु

20 अक्तूबर 2017

नूतन वर्षाभिनंदन

सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया।
सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चित् दुःख भाग् भवेत्।।

सभी सुखी होवें, सभी रोगमुक्त रहें, सभी मंगलमय के साक्षी बनें और किसी को भी दुःख का भागी न बनना पड़े।

नूतन वर्षाभिनंदन

नवु वर्ष आपना जीवनमां सुख, शांति, समृद्धि, ऐश्वर्य अने  तंदुरस्ती लावे  ऐ ज  शुभकामनाओ

नवु वर्ष विक्रम संवत 2074 नी आपने तथा आपना परिवारने हार्दिक  शुभेच्छाओ

नूतन वर्षाभिनंदन
💐💐💐💐💐💐💐

नवा वर्षना राम राम
🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

वेजांध गढवी & परिवार
मोटा भाडिया मांडवी कच्छ
Founder & Editor
www.charanisahity.in
www.gujnews.in

         वंदे सोनल मातरम्

19 अक्तूबर 2017

चारण समाजनुं गौरव :- भवानीसिंह चारण

चारण समाजनुं गौरव :- भवानीसिंह चारण

दिवाळी शुभेच्छा मोमायाभा गढवी

स्नेह मिलन राजकोट

स्नेह मिलन राजकोट
🌈🌈
आई श्री सोनलमा एज्युकेशन & चेरिटेबल ट्रस्ट-राजकोट द्वारा दर वर्ष नी जेम आ वर्षे पण राजकोट *चारण-गढवी समाज नु स्नेह मिलन तारीख 22-10-2017 रविवारे सवारे 9.30 वागे चारण वाड़ी, सुखराम नगर खाते राखेले छे*
🙏🏻अत्रे *परम पूज्य आई श्री कंकु केशर मा* अने *पूज्य पालु बापु* आशीर्वाद आपवा पधारसे.🙏🏻
तो समस्त राजकोट चारण-गढवी समाज ने ट्रस्ट स्नेह मिलन मा आवकारे छे..
🌈🌈

18 अक्तूबर 2017

Youtube चेनल

अवनवा वीडियो , डायरो, संतवाणी , अवनवी माहिती ना वीडियो जोवा माटे चेनल  Subcrib करो 

Subcrib करवा ::-     Click Here



मांडवी कच्छ खाते रहेवानी उत्तम व्यवस्था

मांडवी कच्छ खाते रहेवानी उत्तम व्यवस्था

मांडवी कच्छ खाते फरवा आवता प्रवासीओ अवश्य मुलाकात

पीठडमा प्राणथी प्यारी रचना कीशोरदान सुरु

पीठडमा प्राणथी प्यारी
(राग) भजा तोय भेङीया वाङी

पीठडमा प्राणथी प्यारी, भारु पर भावना भारी

वेणले वेगे वछुटती आवे,दया खाशी दीलमाय
ऐ. लई टेको ई लाकडी तणो, छोरुनी करवा स्हाय
नवेखंड नामना न्यारी, पीठडमा प्राणथी प्यारी

दीपतो एवो चरखडो डुंगर, परचो पुरण खाश
ऐ. पत्थरा रुपी भेंसु परखाती, हाल भाषे आभाश
नजरे कौतुक नीहारी, पीठडमा प्राणथी प्यारी

शींगवडाना घाट पर शोभे, नाणावाली नो नेश
ऐ. आस्था राखी हालतो रेजे, बारणे एने बेश
राखे लाज राखववारी, पीठडमा प्राणथी प्यारी

चडे लाकड़ीये चांपडो एवु, पाटरामा परसीध्ध
ऐ. परचा पुरे कईक जनोने, वरदाली वीध वीध
नाशे पंड़्य दुख नीवारी, पीठडमा प्राणथी प्यारी

बाकुला धणेज तेज तु बोड़ा, पाच पहाडे पुजाय
ऐ. चारण कीशोर वीनवे चंडी, गुणला थारा गाय
पुरे हैये हाम सोयारी, पीठडमा प्राणथी प्यारी

रचना कीशोरदान सुरु

आवो दिवाळी उजवीऐ - रचना :- कविश्री माणेक थार्या जसाणी (गढवी) - झरपरा-कच्छ

आवो दिवाळी उजवीऐ

रचना :- कविश्री  माणेक थार्या जसाणी (गढवी) - झरपरा-कच्छ



आवो दिवाळी उजवीऐ सौ छळ कपट ने छोडी
छळ कपट ने छोडी मळीऐ दिलथी दिलने जोडी,
प्रेम तणां पाणीथी धोईऐ सत्त नी साबु चोडी
भीतरनी भींतोने करीऐ दाग विनानी धोडी,
रुदिआ केरा पट आंगणमां रंगीऐ सुंदीर रंगोडी
लगुतानी ग्रंथीओ नाखीऐ फटाकडा जेम फोडी,
कोईना जांखा जीवन दीपमां दीवेल पुरीऐ दोडी
सांघा दईऐ तुटेला ने जुदा पडेल ने जोडी,
पीऐ प्रेम रस आंख प्याले गटमां "माणेक" गोडी
बनेतो बुजाईऐ कोईनी हैये बळती होळी,

रचना :- कविश्री माणेक थार्या जसाणी (गढवी) - झरपरा-कच्छ

टाईप :- www.charanisahity.in

17 अक्तूबर 2017

नूतन वर्षाभिनंदन स्नेहमिलन अने ज्ञातिनी समाजवाडीनुं लोकापर्ण

नूतन वर्षाभिनंदन स्नेहमिलन अने ज्ञातिनी समाजवाडीनुं लोकापर्ण
ता.21-10-2017 (शनिवार)
स्थळ :- आईश्री सोनलधाम, रामबाग रोड, गांधीधाम-कच्छ
वधारे माहिती माटे :-
विपुलभा (9687700708)
निमंत्रक
श्री गढवी(चारण) युवक मंडळ ट्रस्ट
        संगठन ऐज शकित
         वंदे सोनल मातरम्

16 अक्तूबर 2017

आवेदनपत्र कार्यक्रम

बहोळी संख्यामां हाजर रहेवा खास अपील

महा जोध मेखासर मारण मामड कर्ता चारण कवि अनुभा जामंग

- ||  महा जोध मेखासर मारण मामड ||-

                    " छंद आई श्री आवड जी नो "

                       || दोहा   ||
मामका जाणी मावडी.बावडी पकडे बाई.
भेखडे नो भराय.जलीयान दधिये जामंगा.(१)

कुवा वाव ने कुटीया.सर तळाव सुकाय.
पण डाढाळी नो डूकाय.आवड सरवाणी आनडा.(२)

महा धरति नू मांडलू.एमें ताजा दरिया तेल.
मेरू वायट मुकेल.ज्योतू सुरज जामंगा.(३)

                         ||  छंद :दुर्मिला  ||
पंड मरोडीने नाखत प्राछट,मुख फणीधर विष फुंके.
बहु वड भूंजगाय झेर निलंबर,आभडते भड डग्ग चुके.
करी कोप ते कोरड कर ग्रही,फुत्तकार ह्ज्जाराय शेष फणे.
महा जोध मेखासर मारण मामड,आवड तो वीण कोण हणे.
                       जीय आवड तो वीण कोण हणे,.....टेक(1)

जुध्ध अखाडाय जब्बर जंगम, धम्मम डुंगर हांक धहे.
खट खप्पर खंगम कर खडेडत,लोबडीयाळीय जीभ लहे.
घट घूमट उमट फेर घणा, घट रुधिर पिवत मुख घणे.
                                         महा जोध मेखासर....2

भोमी रण उच्छाळ मुछाळ भुजा बळ,कांध मरोडीन क्रोध करे.
भरे डग्ग ते भूतळ धुंखळ डम्मर,झरड चख्खमें आग झरे.
समसेर विन्जे  अरि तांणत सामट,विजळ वादळ आभ वणे.
                                             महा जोध मेखासर.....3

महा क्रोध करी देत मारत ह्च्चक,लच्चक कमठ पिठ कडे.
अशुराण झा हुंकळ आफळवा,दधि जाण तोफानिय लोढ दडे.
हट्ट हट्ट झा बक्कत दंत कट्टकत,फेरत ठेकत पांव फणे.
                                        महा जोध मेखासर....4

गुंज हिमाळाय गाजत गोहर,खोहर गुफाय खम्म खमें.
जब हुंकनी जब्बर फुंक लगे तब,धर गिरिवर धम्म धमे.
तव खग्ग त्रिशूळाय लागत टक्कर,धणणण अंबर धण धणे.
                                        महा जोध मेखासर ,...5

अशुराण सांढाण चो गण उफाण, ध्रुफाण दधि दळ धुबकीया.
गाढी ह्थ्थ वाढाळीय कोप डाढाळीय,ढाळीय देत्य ते ध्रव कीया.
अरणा कंध झाडाय प्राछट वाढाय,गाढाय शिश ते कोण गणे.
                                                महा जोध मेखासर..6

ढूंढ पहाडाय ढग्ग थिया धड,भड अनंगळ भोम पिया.
नवलाख बिखेरीये केश लटा,खडताळीये अटअं हास किया.
अब अंक बिहाडिये दे वड आशिष, भावथी "जामंग आन " भणे.
                  

कर्ता
चारण कवि अनुभा देविदानभा जामंग ( बावळी )सुरेन्द्र नगर

टाईप :- कवि प्रविण मधुडा (95109 95109)

13 अक्तूबर 2017

श्री यसवंतभाई लांबा - कागधाम

श्री यसवंतभाई लांबा - कागधाम


विडीयो जोवा माटे ::- Click Here

आवा अप्राप्य अने अमूल्य साहित्य माणवा माटे चेनलSUBSCRIBE   करो

11 अक्तूबर 2017

कामई वंदना

*कामई क्रोध नागणी काळी*
कामई बीज ना दिवसे भिमरांणे मां मोगल अने द्वारिकाधीस ना दर्शन थी वळतां यसवंतभाई लांबा नो फोन आव्यो के मां कामईये काल रात नो मने सुवा नथी दिधो..जोगीदान मां तमने याद करे छे...अमे त्यांथी सिधा खजुरीये नेह नदि कांठे आई ना दर्शने पोग्या..मा ने वंदना करी..ने मनमां आई नी सरज नो भाव सरु थयो...
बिजेज दिवसे यसवंतभाई नो जन्मदिन होई सरज मां नामाचरण पंक्ति मां तेमनो नामोल्लेख करी तेमना जन्मदिन नी भेट रुप आ सरज मा कामई ने चरणे धरुं छुं...

.        *कामई क्रोध नागणीं काळी*
.     *रचना: जोगीदान गढवी (चडीया)*
.        *ढाळ: रखैया रावळी परज*

कामई क्रोध नागणीं काळी, जाळ्यो उभो जाम जोराळी रे..वंदु हुं खजुरीया वाळी...टेक

जाम धणीं एनी जात भुल्यो,ने  न्याळीयो चारण नेह
कर्म हिंणें किध नजर्युं कुडी, आतमे खोई उजेह
पितानी प्रत नो पाळी, भोगीये मात नो भाळी रे, कामई क्रोध नागणीं काळी..01

बोलीयो आडां बाटीयांणी ने, ई काळमुखो रे कवेंण
पछी
भागतां एने भोम थई भारे, ज्यां निरखी आग्युं नेंण
भ्रेकुंडा रुप ने भाळी, लागी आखो आभ लाजाळी रे, कामई क्रोध नागणीं काळी..02

आंण उथापी ई अधमीये त्यांतो जाळवा पोगी जोत
लाय जाडेजा ने अंग लगाडी,  मारीये भुंडे  मोत
नोखी जग मात नेजाळी,  चारण जगदंब चुडाळी, कामई क्रोध नागणीं काळी..03

आज वळी यस वंत लांबाये, आपीयुं मा नी याद
जाव कवि जोगीदान जुहारो , सगती पाडे साद
तापे त्रण लोक तेजाळी, हालारी मात हेताळी, वंदु हुं खजुरीया वाळी...04

🙏🏻🔱🙏🏻🔱🙏🏻🔱🙏🏻🔱🙏🏻

CURRENT AFFAIRS FOR PI EXAM 2017 By SAMAT GADHAVI

CURRENT AFFAIRS FOR PI EXAM 2017 By ANGEL ACADEMY GANDHINAGAR WITH SAMAT GADHAVI

Current Affairs Video ::- Click Here

how to prepare for competitive exams ? By ANGEL ACADEMY SAMAT GADHAVI

how to prepare for competitive exams ? By ANGEL ACADEMY SAMAT GADHAVI

Video ::- Click Here

|| रचना : मोगल वंदना स्तुति || || कर्ता मितेशदान गढवी(सिंहढाय्च) ||

*|| रचना : मोगल वंदना स्तुति ||*
*|| छंद : नाराच ||*
*|| कर्ता : मितेशदान महेशदान गढवी ||*

समस्त सत्व मात तू शशक्त विश्व सारणी,
विरक्त तत्व ध्वस्त रक्त दैत्यसु  विदारणी,
महा  मूरत्त चण्डिके प्रचंड मुंड    मारणी,
चवा गुणाय मोगलं नमस्तु मात  चारणी,(१)

उद्धार तू  उगार  पार वार  दे       उमेश्वरी,
विकार कार तार  जार तार विश्व    ईश्वरी,
भवोभजा भुजंगी कोप ठोचला कु ठारणी,
चवा गुणाय मोगलं नमस्तु मात  चारणी,(२)

अज़ाण पाप   आण  दैत मारणा दहाड़में,
प्रमाण में प्रगट्ट मा  पूजंती   हो   पहाड़में,
खलक्क ख्यात हो हयात सेवगा सुधारणी,
चवा गुणाव मोगलं नमस्तु मात   चारणी,(३)

विखंड दंडके अखंड चंड कालिका विणु,
प्रचंड पंड व्रेहमंड नौ ग्रहा    करे   हिणु,
त्रिशूल हाथ कामळी त्रियाभू लोक तारणी,
चवा गुणाय मोगलं नमस्तु मात   चारणी (४)

गुणाध्य आद्य आत्मजा विशाल रूप गामिनी,
किरात कंद लोभ मुक्त काम  दैव कामिनी,
निकंद मोह क्रोध काल फंद कै  निवारणी,
चवा गुणाय मोगलं   नमस्तु  मात चारणी  (५)

तुहि मया तुहि जया तुही तू शक्ति शारदा,
अपार आर्तनाद *मीत* याचना   दु  आरदा,
धरु नाराच छंद मुख दोष  वित्त   दारणी,
चवा गुणाय मोगलं   नमस्तु  मात चारणी (६)

*🙏~~~मितेशदान(सिंहढाय्च)~~~🙏*

*कवि मीत*

75 पागडी - महाराणा प्रतापनो गीत

75 पागडी - महाराणा प्रतापनो गीत
स्वर :- राजभा गढवी (गीर) अने कविराज कुलदीप गढवी


वीडियो जोवा माटे :- ::- Click Here



10 अक्तूबर 2017

भावनगर राजकवि श्री पिंगळशीभाई पाताभाई नरेला नी 161 जन्म जयंती

आजे (ता.10-10-17) भावनगर राजकवि श्री पिंगळशीभाई पाताभाई नरेला नी 161 जन्म जयंती छे

राजकवि श्री पिंगळशीभाई पाताभाई नरेलानुं टुंक मां जीवन चरित्र
नाम  :- पिंगळशी
पितानुं नाम :- पाताभाई नरेला
मातानुं नाम :- आईबा
जन्म  :- आसो सुद-11  सवंत 1912 ता.10-10-1856
जन्म स्थळ :- शिहोर
अवशान :- फागण सूद- 14 - ता.04-03-1939



वधारे माहिती (PDF) :- Click Here



9 अक्तूबर 2017

भकित नगर बेस्ट पोलीस मथक सौराष्ट्रक्रांति अहेवाल

भकित नगर बेस्ट पोलीस मथक

भकित नगर पोलसी स्टेशनना समग्र् स्टाफ ने खूब खूब अभिनंदन

अंजार मां वाईलडलाइफ तसवीरोनुं प्रदर्शन योजायु

अंजार मां वाईलडलाइफ तसवीरोनुं प्रदर्शन योजायु
ता.08-10-2017 ना रोज अंजार (कच्छ) भाटिया समाजवाडी मध्ये माणेक गढवी (ववार-कच्छ), अंकित भट्ट अने विशाल पीठडीया द्रारा वन्यजीवन ने प्रदर्शित करती पसंद करेली 80 जेटली तसवीरो दर्शावाई हती.
फोटाओ




चारण तिथि केलेन्डर

चारण तिथि केलेन्डर

(1) आ वर्ष सोनल बीजना चारण तिथि केलेन्डर निर्माणनो आयोजन छे.
(2) जेमां चारणोना गामो चारणोना तहेवारो (मेळा/पाखी/जन्म जयंती वगेरे) उजवणी नो समावेश करवामां आवशे.
(3) केलेन्डर ना वेचाणनी तमाम आवक समाजना शैक्षणिक हेतु माटे वापरवामां आवशे.
(4) केलेन्डर निर्माणनो खर्च जाहेरात मांथी काढवामां आवे ते माटे जाहेरात लेवामां आवशे.
(5) जाहेरातना भाव रू. 1000 /- तेमज रू.2000 /- राखवामां आवेल छे.
(6) तमारा गाम अने आसपासना गामोमां उजवाता चारणोना प्रसंगोनी माहिती तिथि तेमज तारीख  सहित आपवी
(7) केलेन्डर नो समयगाळो सोनलबीज थी सोनलबीज नो रहेशे

(1) जाहेरात तैयार करी Whatsapp पर मोकलवानुं रहेशे
(2) चारण तिथि नी माहिती Whatsapp / Text Msg थी ज मोकलवा विनंती
(3) जाहेरातना पैसा बैंक खाता मां जमा कराववाना रहेशे
NAME :- VALJI LAXMAN GADHAVI
BANK NAME :- DENA BANK (MOTA LAYJA)
ACCOUNT NO :- 138010031662
IFSC CODE :- BKDN0331380

पैसा जमा करावी Whatsapp No पर जाण करवी

खास नोंध :- माहिती अने जाहेरात ता.10/11/2017 सुधी मोकलवानी रहेशे

चारण तिथि केलेन्डर माटे माहिती नीचे मुजब मोकलवी
गामनुं नाम :- 

तालुका नुं नाम :-

जील्लानुं नाम :- 
तिथि :- 
तारीख :- 
प्रसंग नी टूंक मां विगत :- 
प्रसंगनो 1 फोटो :-


ऊपर मुजबनी माहिती आ नंबर 9909722410 (वालजीभाई गढवी) पर मोकली आपवी

जाहेरात अने वधारे माहिती माटे संपर्क करो

वालजीभाई गढवी

मो :- 9909722410

        सहकार आपवा विनंती
          वंदे सोनल मातरम्

चारण समाजनुं गौरव गुजरात सीनियर रेसलिंग चेम्पियनशीप-2017 मां राजय कक्षाऐ प्रथम नंबर

चारण समाजनुं गौरव गुजरात सीनियर रेसलिंग चेम्पियनशीप-2017 मां राजय कक्षाऐ प्रथम नंबर 
नाम  :- भरतभाई कल्याणभाई गढवी
गाम :- पांचोटीया ता.मांडवी-कच्छ
रमत :- गुजरात सीनियर रेसलिंग चेम्पियनशीप-2017 (65 KG) मां गुजरात राजय मां प्रथम नंबर प्राप्त करी हवे  राष्ट्रीय कक्षा  भाग लेशे
राष्ट्रीय कक्षा विजेता थई चारण समाज अने परिवार नो नाम रोशन करो ऐवी मां भगवती पासे प्रार्थना 

खूब खूब अभिनंदन

8 अक्तूबर 2017

75 पाघडी - राजभा गढवी(गीर) अने कुलदीप गढवी

#75PAGHDI
#A_SONG_Of_RANA_PRATAP
#RAJBHAGADHVIGIR
#KULDIPGADHVI

This Song Is Coming On 11/10/17
On My Youtube Channel
www.youtube.com/c/kuldipgadhvik2

So Plz Share More And More To Your Network The Historical Song Of Rana Pratap

I Hope You Will Like
Rona Ne To Sambhdo J Chho

Have Rana Nu Sambhdo

7 अक्तूबर 2017

75PAGHDI

#75PAGHDI
#TributeToRanaPratap
A Song By K2gadhvi'sFolkStudio
Voice : RajBhaGadhviGir
& Kaviraj Kuldip Gadhvi
Lyrics : KuldipGadhvi
Music Director : Rushik Parmar (OmAudioRajkot)
Promo-3 ::- Click Here



You Can Watch Full Video on YouTube 11september 
www.Youtube.com/c/KuldipGadhvik2
THE FOLK TRIBUTE TO
MAHARANA PRATAP


4 अक्तूबर 2017

चारण कुळ विमर्श लक्ष्मणभाई पिंगळशीभाई गढवी

साहित्य रसिकोने जणावता आनंद थाय छे के, लक्ष्मणभाई पिंगळशीभाई मेघाणंदभाई गढवी रचित  ई-बुक स्वरूपे 

पुस्तक नुं नाम :- चारण कुळ विमर्श  ::- Click Here 

लेखक :- लक्ष्मणभाई पिंगळशीभाई मेघाणंदभाई गढवी


आ अमूल्य अने अप्राप्य काव्य संग्रहो मोकलवा बदल श्री लक्ष्मणभाई पिंगळशी गढवी (जामनगर) नुं खूब खूब आभार

आपनी पासे पण अप्राप्य पुस्तको, रचनाओ, लेखो, अंको, साहित्य वगेरे होय तो आप पण मोकली शको छो आ नंबर 9913051642 पर

आप बधा आपनो किंमती समय काढी सहकार आपो छो ऐ बदल आपनो पण खूब खूब आभार


                                         वंदे सोनल मातरम्


Sponsored Ads