.

"जय माताजी मारा आ ब्लॉगमां आपणु स्वागत छे मुलाक़ात बदल आपनो आभार "
आ ब्लोगमां चारणी साहित्यने लगती माहिती मळी रहे ते माटे नानकडो प्रयास करेल छे.

WhatsApp Update

.

Notice Board


Sponsored Ads

Sponsored Ads

Sponsored Ads

30 जनवरी 2019

कवि काग ऐवोर्ड -2019

कवि काग ऐवोर्ड -2019

पू. मोरारीबापु प्रेरीत कवि काग ऐवोर्ड-2019 नीचे मुजब आपवामां आवशे.

(1) कविश्री त्रापजकर (त्रापज जी. भावनगर) 
(2) श्री वसंतभाई ऐस.गढवी (निवृत IAS)
(3) श्री कीर्तिदान गढवी
(4) श्री रघुराजसिंह हाडा (राजस्थान)
(5)  आकाशवाणी राजकोट केंद्र 

ता.10-03-2019 ने रविवारना रोज कागधाम मजादर खाते पह्मश्री दुला भाया काग (भगत बापु) नी  पूण्यतिथि ऐ पू. मोरारीबापुना हस्ते कवि काग ऐवोर्ड आपवामां आवशे.

कवि काग ऐवोर्ड-2019 मेळववा बदल खूब खूब अभीनंदन

                   वंदे सोनल मातरम् 


27 जनवरी 2019

क्रांतिकारी बारहठ परिवार की तस्वीर का भव्य लोकार्पण दिल्ली विधानसभा में

क्रांतिकारी बारहठ परिवार  की तस्वीर का भव्य लोकार्पण दिल्ली विधानसभा में संपन्न होने के साथ एक नए संकल्प की शुरुआत हुई। 

इसके साथ ही संपूर्ण देश में दिल्ली की विधानसभा पहली विधानसभा हो गई है जहां पर इन महान क्रांतिकारियों की तस्वीरें सुशोभित हुई है। आजादी के बाद उन तमाम शहीदों को वह दर्जा नहीं मिला जिनके वह हकदार थे और इनमें हमारे बारहठ परिवार का नाम लंबे समय तक गुमनामी में ही रहा ।पिछले दशकों से प्रयास रंग लाए एवं इनके भी जगह-जगह स्मारक एवं विभिन्न सड़कों के नामकरण का कार्य प्रारंभ हुआ। इन सभी में कल गणतंत्र दिवस के मौके पर यह अभुतपूर्व  आयोजन ऐतिहासिक उपलब्धि माना जाएगा क्योंकि किसी विधानसभा में सरकारी तौर, पर विधिवत रूप से ,रिकॉर्ड में दर्ज होकर यह कार्य नियमानुसार कमेटी के द्वारा संपन्न हुआ।  यह कार्य एक नजीर बनेगा ।  2012 की रथयात्रा के दौरान से दिल्ली में क्रांतिकारी बारहठ परिवार के स्मारक की मांग की जा रही थी जिसके  लिए पांच छह महीनों में प्रवीण जी कविया एवं दिलीप सिंह जी द्वारा एक बार विधानसभा में तस्वीर लगवाने के कार्य को प्राथमिकता पूर्वक संपन्न करने का निश्चय किया गया। समय-समय पर संपूर्ण प्रक्रिया से गुजरते हुए कल 26 जनवरी को यह कार्य संपन्न हुआ जिसमें राजस्थान के कई हिस्सों से महान बलिदान को स्मरण करने बंधु पधारें। क्रांतिकारी बारहठ परिवार से केसरी सिंह जी  की दोहिती श्रीमती विजयलक्ष्मी जी दोहिते  श्री कृष्ण कुमार जी श्रीमती निवेदिता मेहडू जी डॉ रमन देपावत विशाल सोदा शत्रुसाल सौदा व अन्य परिजनों ने इस आयोजन में उपस्थित होकर गौरव बढ़ाया।
*अस्सी वर्षीय श्रीमती विजयलक्ष्मी जी के संस्मरण व उन महान क्रांतिकारियों के संघर्षों की कई अनसुनी अप्रकाशित बातें बताई जिन्हें सुनकर सभी को गर्व महसूस हुआ। इस सौभाग्यशाली क्षण पर सभी उपस्थित बंधुओं ने करतल ध्वनि से आदरणीया विजयलक्ष्मी जी व सभी बारहठ परिवार के सदस्यों का अभिनंदन किया*। आयोजन का प्रारंभ होटल जागीर पेलेस से ही प्रारंभ हो गया था , जहां सभी बंधु उपस्थित हो कर एकत्रित हुए।  सभी  का सम्मान किया गया।वहां से मन्त्री जी के आवास पर राजस्थान गुजरात मध्यप्रदेश हरियाणा से पधारे बंधुओं द्वारा धन्यवाद अभिनंदन समारोह में राजेन्द्र पाल गोतम के इस  विशेष प्रयास के लिए सभी बंधुओं ने फुलमालाओं से लाद दिया। तथा सभी ने मुक्तकंठ से प्रशंसा की। *यहां पर भावपूर्ण संचालन, सुत्रधार  प्रवीण कविया ने सभी के स्वागत के साथ किया । अपनी ओजस्वी वाणी में आवड दान कोटड़ा ने क्रांतिकारी बारहठ परिवार के त्याग बलिदान को स्मरण करते हुए आजादी के बाद अब तक उन्हें भूला देने के लिए सरकारों को व राजनीतिक उदासीनता पर अपनी बात रखकर सभी को प्रेरित किया। *इसके बाद इस संघर्ष के प्रमुख अागेवान  कैलाश सिंह जाडावत ने अपनी मधुर आवाज में बारहठ परिवार के “बलिदान को भुल गए” कविता सुनाकर सबको रोमांचित कर दिया*। *दिलिप सिंह जी एवं पुरी टीम* द्वारा मन्त्री जी का आभार व्यक्त करने व लंच के बाद सभी एकसाथ विधानसभा पहुंचे। वहां पर विधानसभा अवलोकन हुआ। तथा उस महत्वपूर्ण जगह पर बारहठ परिवार की तस्वीर स्थापित हुई उसको देख कर सभी ने  प्रशन्नता व्यक्त की।  विधानसभा अध्यक्ष के मुख्य द्वार के समीप प्राइम लोकेशन पर तस्वीर लगना, जो अपने आप में प्रसन्नता की बात है।  इसके बाद सार्वजनिक रूप से गणतंत्र दिवस का समारोह अपार भीड़ के बीच स्वास्थ्य मंत्री माननीय श्री सत्येंद्र जैन,विधानसभा उपाध्यक्ष सुश्री राखी बिड़ला व् बहुत से विधायकगण भी उपस्थित थे स्थानीय विधायक व मंत्री विधानसभा अध्यक्ष के साथ कार्यक्रम प्रारंभ हुआ जिसमें सर्व समाज एवं आम नागरिक एकत्रित हुए। भव्य स्तर व करतल ध्वनि के बीच दिल्ली उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया व विजयलक्ष्मी जी के कर कमलों द्वारा तस्वीर का एतिहासिक,  उदगाटन संपन्न हुआ । व बारहठ परिवार अमर रहे  के नारों ,जय घोष से गगन गूंज उठा, सम्पूर्ण माहोल क्रांतिकारियों के रंग में रंग गया।  बारहठ परिवार के लिए उद्बोधन में कैलाश सिंह जी जाडावत ने अपने शानदार गीत की प्रस्तुति से बारहठ परिवार के त्याग बलिदान को प्रस्तुत किया उसे सुनकर वहां उपस्थित बीएसएफ बेंड ने बिना कहे अपनी धुन मिलाकर उस गीत व क्षण को  यादगार बना दिया। उपस्थित अतिथियों व अपार भीड़  ने करतल ध्वनि से सराहना की।
आयोजन की समय सीमा तय होने से उस वक्त उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया द्वारा बारहठ परिवार के सम्मान के साथ अमर शहीद कुंवर प्रताप सिंह बारहठ सेवा संस्थान शाहपुरा, उदयपुर, अखिल भारतीय चारण गढवी महासभा, मेवाड़ चारण महासभा, हिंगलाज सेवा समिति दिल्ली , द्वारा अभिनंदन पत्र एवं स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए।
इसके बाद मन्त्री राजेंद्र पाल गौतम के कार्यालय में समस्त बंधुओं की उपस्थिति में आभार व्यक्त करने के लिए सभी अतिथियों एवं राजस्थान गुजरात मध्य प्रदेश से आए हुए बंधुओं को स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए एवं मंत्री जी को क्रांतिकारी बारहठ परिवार की विशाल तस्वीर भेंट की गई।
*इस एतिहासिक आयोजन का प्रभाव आने वाले समय में हर जगह पर अपनी छाप छोड़ते हुए प्रेरित करता रहेगा*
इस आयोजन से हम प्रेरित होकर अपने अपने राज्य में भी संकल्प लेकर इस मुहिम को सफल करें ,एसा प्रण लेते हैं।
महेंद्र सिंह चारण
संपादक
चारणत्व मेगज़ीन
उदयपुर

चारण कविश्री जोगीदानभाई चडियानो जन्मदिवस

आजे चारण कविश्री जोगीदानभाई चडियानो जन्मदिवस छे

परिचय⤵⤵
नाम :- जोगीदानभाई देवीसिंहभाई गढवी (चडिया)
जन्म तारीख :- 27-01-1981
अभ्यास :- MBA
नोकरी :- HR ऐडमिन मेनेजर
संपर्क नं :- 98983 60102

जोगीदानभाईने जन्म दिवसनी खूब खूब वधायुं

ई-बुक डाउनलोड करवा माटे⤵⤵

(1) रंग चारणनी रीत भाग-1 :- Click Here

(2) नित्य  सूर्यवंदना :- Click Here

      वंदे सोनल मातरम्

25 जनवरी 2019

वजा भगत (काठडा ता.मांडवी कच्छ) नी 30 मी पुण्यतिथी


आजे पोष वद-5 (ता.25-01-2019) ऐटले समाज सेवक अने कच्छीमां गीता ना सर्जक श्री वजा भगत (काठडा ता.मांडवी कच्छ) नी 30 मी पुण्यतिथी छे.

आजे तेमनुं संक्षिप्तमां जीवन चरित्र

नाम             :- वरजांग (वजा भगत)
पितानुं नाम   :- गोपाल कानाणी
मातानुं नाम   :- जेतबाई
जन्म            :- वैशाख सुद-3 ता.03-05-1916
अवसान       :- पोष वद-5 ता.27-01-1989

श्रीमद् भगवत गीताना 18 अध्यायो नो कच्छी भाषामां सर्जन करेल अने 1982 मां आ छपावी कच्छी प्रजाने आध्यात्मिक ग्रंथ नी भेट आपेल.

वधारे माहिती माटे (Pdf File) Click Here

टाईप बाय :- www.charanisahity.in

वजा भगतनी 30 मी पुण्य तिथी ऐ कोटी कोटी वंदन


24 जनवरी 2019

चारण समाजनुं गौरव :- वर्ग-3 नी परीक्षामा पास

चारण समाजनुं गौरव :- वर्ग-3 नी परीक्षामा पास

GSSSB द्रारा लेवायेल SURVEYOR( ADVTNO-126/201617) नी परीक्षामां पास

श्री कमलेशकुमार केशुभा गढवी (वारीया) )मांडवी कच्छ)

खूब खूब अभिनंदन
💐💐💐

22 जनवरी 2019

ई-बुक नित्य सूर्यवंदना - चारण कविश्री जोगीदानभाई चडिया

ई-बुक नित्य  सूर्यवंदना - चारण कविश्री जोगीदानभाई चडिया 

पुस्तक नाम :- नित्य  सूर्यवंदना
रचियता :- चारण कविश्री जोगीदानभाई चडिया
संकलन/संपादन :- भावेशभाई सोलंकी, राजकोट 

आ पुस्तक डाउनलोड करवा माटे :- Click Here


चारण कविश्री जोगीदानभाई चडियानी सौप्रथम ई-बुक पुस्तक 

रंग चारणनी रीत भाग -1
कुल पाना :- 231
कुल रचनाओ :- 140

आ पुस्तक डाउनलोड करवा माटे :- Click Here

18 जनवरी 2019

जुद्धे मोगल जोगणी रचना: दौलतदान अलराजजी बाटी

.             *जुद्धे मोगल जोगणी*
.     *रचना: दौलतदान अलराजजी बाटी*
.          *प्रेषक: जोगीदान चडीया*

*उभ्भय चवहठ अठहरां,हथविस सोळ हजार*
*असस्त्र मौगल दल अहट,करत जुद्ध जयकार*

.                   *छंद पद्धरी*

सथ अंब मही संगर सरोष, रत बीज कालीका लरत रोष
धन थट्ट भट्ट आसूर धनेक, हथ बीसौं चंडी हाकल हनेक

बंधूक नाल तौपां बहार, पड पडत पाल वह सह प्रहार
हीय हहरी काद भागत नीहार,बली बेठ यज्ञ सुर पुर बिहार

मद मस्त सहत मृदगांनी मार, टूक टूक वपुन्न हिय प्रदनी हार
मुद लहत लंक त्रुट्टत मकोड, प्रोवत वपुक प्रंडी पकोड

पेखंत थरर कायर पलाय, रण रंग बीर पा टीक रहाय
धण करत वेढ भट थटनी घेर, फट कटत शिस नहीं पडत फेर

हिय हार दुगल दिव्यांण हेर, टिक पाय टाय भट्ट करत टेर
घडी दो घडी को यह है घीयाण, प्रय उद्व गती लीहरो पीयांण

मथ गिरत धरण नहीं होत मोत, हथ गिरत जुरत संधान होत
आसूर अनेक माया उपाय, जानत जगंब नहीं जान्ही जाय

तप कीयल तेज ताको प्रताप, मिली अंत धुरा आपही आप
अधरांग कैक बहरत उभार, कटी आड वाड दरसत कटार

उपवीत्त वाढ करी परत अंग, ढही मुंड काल काटत कुढंग
उट्ठत कबंध फिर लरत आप, परि मुंड भौम बोलत प्रलाप

मिली मगत भैज भूतड भ्रखंत, दधी फुट्ट माट्ट मुंन्डी दिखंत
उच्चार करत शबदां अदोह, श्रृंगाल श्याल कूकत कदोह

बहुं रोत प्रेत बोलत कुवाक, डंनकीनी नाच डह डहक डाक
बाजत निफेरी भैरी बिहाव, हुकळंत भूत कुत हाव भाव

फुट्टत पखाल ईव छरद फेल, झुक पियत डाकीनी उकल झेल
खलबल मतंग ढही खाल खस्त, हसी आत चलत लैखनी हस्त

दौलत भनंत औखन अधात, जद मच्यौ जुद्ध मौगलां मात
बज तुर त्रंब भट्ट सूर बाढ, गल गदीत मलछ कां छुटत गाढ

🙏🏻🔱🙏🏻🔱🙏🏻🔱🙏🏻🔱🙏🏻

17 जनवरी 2019

प्रातः स्मरणीय प.पू.आईश्री हांसबाईमांनो 91 मो जन्मजयंती महोत्सवनी आमंत्रणपत्रिका

प्रातः स्मरणीय प.पू.आईश्री हांसबाईमानो 91 मो जन्मजयंती महोत्सवनी आमंत्रणपत्रिका

सवंत 2075  महा सुद-5 (वसंत पंचमी) ता.10-02-2019 ने रविवार

महोत्सवनी रूपरेखा
प्रातः समय पूजन अर्चन
सवारे 11-15 कलाके सन्मान कार्यक्रम
महाप्रसाद बपोरे 1-00 कलाके
संतवाणी 
सांजे 3-00 थी 7-30

शुभस्थळ :-
श्री भगवती कृपा धाम, मोटा रतडीया ता. मांडवी कच्छ
मो- 7567816907

निमंत्रक
माताजी खीमश्रीबेन हांसबाईमा
माताजी धनबाईबेन हांसबाईमा
तथा समस्त सेवकगण

        जय मा हांसबाई

      वंदे सोनल मातरम्


श्री यशवंतभाई गढवी (लांबा) नुं परिचय

श्री यशवंतभाई गढवी (लांबा) नुं परिचय 

जेना रुंवाडे-रुंवाडे चारणनी अस्मिता - चारणत्व - चारणनी संस्कृति रहेल छे तेवां यशवंतभाई लांबा आपणा साहित्यना, आपणां संस्कारनां, आपणां वारसाना ऐक वट वृक्ष समान आ अडाभीड चारणने मोटाभागना लोको यशवंतभाईने लोकसाहित्य - चारणी साहित्यना मर्मज्ञ - विध्वान तरीके तो जाणे ज छे परंतु तेओ ऐक सारा नाट्यकार, विवेचक , लेखक अने गणीतशास्त्रना ज्ञाता छे.

परिचय 
नाम :- यशवंतभाई आणंदभाई गढवी (लांबा)
जन्म तारीख :- 09-10-1956 (नवरात्री)
जन्म स्थळ :- जांबुडा जि.जामनगर
अभ्यास :- बी.ऐ (गुजराती)

वधारे माहिती माटे :- Click Here

संदर्भ :- YCCA 

श्री यशवंतभाई गढवी (लांबा)ना विडीयो 

(1) Click Here 
(2) Click Here 

15 जनवरी 2019

आई श्री पीठड माताजीना जन्मोत्सवनी आमंत्रणपत्रिका

*आई श्री पीठड माताजीना जन्मोत्सवनी आमंत्रणपत्रिका*

सवंत 2075 महा सुद-5 बुधवार
ता.10-02-2019

मंगल अवसरो

🔹आरती पूजन - सवारे 6-00 कलाके
🔹बावन गजनी धजा आरोहण - सवारे 7-30 कलाके
🔹यज्ञ - सवारे 8-00 कलाके
🔹भोजन प्रसाद बपोरे 12-00 कलाके
🔹संध्या आरती - सांजना 7-00 कलाके
🔹संतवाणी रात्रे 8-30 कलाके

स्थळ :- नाणावाळीना नेश श्री पीठडधाम जामवाळा गीर ता. गीर गधडा जी.गीर सोमनाथ

*निमंत्रक*
नाणावाळीना नेश श्री पीठडधाम
पू. लक्ष्मीआई मां तथा भक्तगण

*जय मा पीठड*

*वंदे सोनल मातरम्*

|| फ़ोर्स तालीम ना दुहा || || कर्ता मितेशदान गढ़वी(सिंहढाय्च) ||

*|| ट्रेनिंग लेता रिक्रूट ना दुहा ||*
*|| कर्ता : मितेशदान गढ़वी(सिंहढाय्च) ||*
*|| दोहा ||*

तालीम मा सवारे ज्यारे उठया बाद तालिमार्थीओ व्यायाम मेदांन मा जवा सुधि जे प्रवृति,मौज,आनंद,करे छे ते घटना ना दुहा,,,,

*वेहला उठीने वेरता,(इ तो)आळस कैक  अपार,*
*मानो आ मितराय के,(केता)पोढ्ये न आवे पार,(1)*

*ब्रस दाढ़ी कर बंकडो,झडप तैयारी झट*
*मानों आ मितराय के,ए पोगेय व्यायाम पट(2)*

*अध उठेला आळसु,(जे)धोडता न राखे धैर्य,*
*मानो आ मितराय के,(इ)लोठकी लेता लेर्य(3)*

(पछी)

*मेजर साहेब ना काने,(जो)पड़े बुकाहा पोक*
पछी
*मानो आ मितराय के,शब्दो बनता श्लोक(4)*
😄

*पोल नाम नु पोषण, पकडे करता पार,*
*मानो आ मितराय के,ई आराम करे अपार(5)*

*हाजरी लै ने हावजो,रनिंग करता रोज,*
*मानो आ मितराय के,एमा माणेय नकरी मौज(6)*

*छूटा पड़ी ने छोडता,समूह मुकी समराट*
*मानो आ मितराय के,घडे विखेरयो घाट(7)*

*बहु निकड़े बीमारियों,जे खोटा बहाने खट्ट*
*मानो आ मितराय के,ई चपळ चंद चपट्ट(8)*

*होय हजारु हरखेला,(जे) सदाय  आगळ सेज,*
*मानो आ मितराय के,(तोय) तपे न ऐनु तेज(9)*

*पोलरिया पण पामता,तालीम ग्रहण नु तेज,*
पण
*मानों आ मितराय के,(जेनु) भागेय तन नु भेज(10)*

पीटी पूरी,,,,,,😁🙏
पेहलो लेक्चर पुरो थयो,,,,,

*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

*कवि मीत*

14 जनवरी 2019

प.पू. आईश्री देवल मा नो जन्म दिवस

आजे प.पू. आईश्री देवल मा भाड़ा ता. मांडवी कच्छ हाले वेरावळ नो जन्म दिवस छे

नाम             :- देवल
पितानुं नाम  :- पबुभाई वाछियाभाई मालम
मातानुं नाम  :- खीमश्रीबेन
जन्म स्थळ   :- वेरावळ 

प.पू. आईश्री देवल मा ना प्रागट्य दिवसे तेमना चरणोमां शत : शत : वंदन

निरखी त्यां नमणुं थई, हती न ऐनी हेव
जोगण लागे जोगडा, देवल कउं के देव

प्रवचन सांभळवा माटे :- Click Here

           वंदे सोनल मातरम्








10 जनवरी 2019

સ્પર્ધાત્મક પરીક્ષાઓ માટે ટયુશન કલાસ

સ્પર્ધાત્મક પરીક્ષાઓ માટે ટયુશન કલાસ

ચારણ બોર્ડિંગ માંડવી કચ્છ ખાતે આઈશ્રી દેવલ માં (સવની-વેરાવળ) ની પ્રેરણાથી અને વિજયભાઈ ગઢવીના માર્ગદર્શનમાં સ્પર્ધાત્મક પરીક્ષાઓ માટે ટયુશન કલાસ ચાલુ છે.
આજ રોજ (તા.10-01-2019) આઈશ્રી દેવલ મા(સવની-વેરાવળ) ટયુશન કલાસ માં પધારેલ.
ટયુશન કલાસનો સમય
સમય :- સવારે 11-00 થી 1-00 કલાકે
સ્થળ :- શ્રી લક્ષ્મણ રાગ ચારણ બોર્ડિંગ, માંડવી કચ્છ.
સમાજ દ્રારા વર્તમાન સમય અનુસાર સ્પર્ધાત્મક પરીક્ષા માટે વ્યવસ્થા કરવામાં આવેલ છે તો સ્પર્ધાત્મક પરીક્ષાની તૈયારી કરતા વિધાર્થીઓ બહોળી સંખ્યામાં લાભ લેવા વિનંતી
      વંદે સોનલ માતરમ્

8 जनवरी 2019

|| सोनल आद्य स्वरूप || || मितेशदान सिंहढाय्च ||

*|| : सोनल आद्य स्वरूप : ||*
*|| : कवि मितेशदान महेशदान गढवी (सिंहढाय्च) : ||*
*|| : दुहा :||*

*पोष बिज पुरषार्थने,धरो जगावी धुप,*
*मानो आ मितराय के,सोनल आद्य स्वरूप,(1)*

*जगदंबा नित जागती,काट विकार कुरूप*
*मानो आ मितराय के,सोनल आद्य स्वरूप (2)*

*मीठप तोरी मावड़ी,अक्षत आई अनूप*
*मानो आ मितराय के,सोनल आद्य स्वरूप(3)*

*अम अवगुणे आईतु,चुके न आयल चुप,*
*मानो आ मितराय के,सोनल आद्य स्वरूप(4)*

*सत बेली संसारनी,आरंभ तुही उप*
*मानो आ मितराय के,सोनल आद्य स्वरूप(5)*

*🙏---मितेशदान(सिंहढाय्च)---🙏*

*कवि मीत*
9558336512

प.पु. आईश्री सोनल मां ना 96 मो प्रागट्य दिवस

आजे प.पु. आईश्री सोनल मां ना  96 मो प्रागट्य  दिवस छे.आजे आ निमिते  नीचे मुजब माहिती आपवानुं नानकडू प्रयास करेल छे.




आई श्री सोनल मांनो संक्षिप्त परीचय

नाम : सोनबाई हमीर मोड
पितानु नाम           : हमीर माणसुर मोड
मातानु नाम           : राणबाई माणसुर घांघणिया
जन्मदिन              : वि.सं 1980 , पोष सुद -2
                                ता. 08-01-1924
जन्मस्थल            : मढडा , ता. केशोद , जी. जुनागढ
कुळ                      : चारण कुळ
गौत्र                      : तुंबेल गौत्र
मुळ शाखा             : मवर ( गुंगडा )
पेटा शाखा             : मोड
कुळ ऋषि             : शिव
कुळदेवी               : रवेची
स्वधामगमन       : वि.सं 2031, कारतक सुद -13
                              ता. 27-11-1974
समाधी स्थळ       : कणेरी , ता. केशोद , जि. जुनागढ

संदर्भ : आईश्री सोनल कथामृत लेखक :- आशानंदभाई गढवी झरपरा ता. मुंदरा-कच्छ

 सोनल बीज अंगे वधारे माहिती(PDF FILE)   Click Here

आजे नीचे मुजबना पुस्तको ई- बुक तरीके मुकेल छे.

(1) आईश्री सोनल ईश्वरी - लेखक :- श्री पचाण विश्राम आलगा (ई-बुक) Click Here

(2) सोनल चरित्र :- लेखक :- श्री आशानंद सुराभाई गढवी झरपरा-कच्छ (ई-बुक) Click Here

(3) आईश्री  सोनल कथामृत :- लेखक :- श्री आशानंद सुराभाई गढवी झरपरा-कच्छ (ई-बुक) Click Here

ई - बुक डाउनलोड माटे मार्गदर्शन 

बुक ना नाम सामे लखेल Click Here  पर क्लिक करशो एटले बुक डाउनलोड थई जशे

प.पू.आईश्री सोनल माना 96 मां जन्म दिवसनी  हार्दिक शुभेच्छाओ

चारणी नूतन वर्षाभिनंदन

वंदे सोनल मातरम् 

6 जनवरी 2019

चारण संस्कृति अंकनी माहिती

चारण संस्कृति अंकनी माहिती
चारणी साहित्य अने लोकसाहित्य द्रारा संस्कार अने संस्कृतिने जाळवी राखवा प्रयत्न करतुं मेगेझीन ऐटले चारण संस्कृति
आईश्री सोनल मां ऐज्युकेशन ऐन्ड चेरीटेबल ट्रस्ट-राजकोट द्रारा प्रकाशित चारण संस्कृति अंकनी माहिती
त्रिमासिक अंक छे
जान्युआरी/ऐप्रिल/जुलाई/ऑकटोम्बर नी पहेली तारीखे प्रकाशीत करवामां आवे छे
डाउनलोड :- अंक - 33 (जान्यु-19) Click Here
तंत्रीश्री रामभाई जामंग
लवाजम :-
रू.500 /- (पांच वर्षनुं)
चारण संस्कृति अंकनी लवाजम भरवानी माहिती
(1) रूबरू
चारण संस्कृति कार्यालय, मुळजीभाई के.लांबा, चारण वाडी, सुखरामनगर-2, कोठारीया चोकडी, राजकोट
(2) बेंक/चेक/मनीऑर्डर
नाम :- आईश्री सोनल मां ऐज्युकेशन ऐन्ड चेरीटेबल ट्रस्ट-राजकोट
बेंक :- बेंक ऑफ ईन्डीया (युनिवर्सीर्टी रोड राजकोट)
खाता नं :- 312710210000008
(नोंध :- जमा/चेक/मनीऑर्डर थी जमा करावी तेनी जाण योगेशभाई (9978442765) अथवा जयुभाई पालीया (9898501236) करवी)
लवाजम माटे संपर्क :- नानुभा नैया (8469497853)
चारण संस्कृति अंकना जुना अंको डाउनलोड करवा माटे⤵⤵
www.sonalmaatrust.org
चारण संस्कृति मुखपत्रनो हेतु अने भावना ऐवी छे के वधारेमां वधारे परिवारोना घरे पहोंचे अने वंचातु थाय तो आप अन्य परिवारोने जाणकारी आपीने ग्राहक बनावो
चारण अंक द्रारा चारण समाज माटे साहित्य , अवनवा समाचार, वगेरे माहिती आपवा मां आवे छे
दरेक चारणो आ अंकनी लवाजम भरी अवश्य चारण संस्कृति अंक मगाववा विनंती

5 जनवरी 2019

पू.आईश्री सोनल मां

बधा आश्रमो गृहस्थाश्रमने आधारे छे, ऐटले गृहस्थाश्रमने दूध जेवो मानेल छे. दूधथी जेम बधानुं पोषण थाय छे, ऐम गृहस्थाश्रमथी सौनुं पोषण थाय छे. पण दूधमां जो मीठु पडी जाय तो ? तेने वाडमां नाखी देवुं पडे. माटे गृहस्थाश्रमने पवित्र राखवो.
                  *- पू.आईश्री सोनल मां*
संदर्भ :- सोनल संजीवनी मांथी
         *वंदे सोनल मातरम्*

4 जनवरी 2019

आई श्री सोनल मांनुं आदेश (पोस्ट ता.04-01-2019)

आई श्री सोनल मांनुं आदेश (पोस्ट ता.04-01-2019)

आर्थिक रीते गरीब तवंगर वगेरेना जे भेद छे तेमां मनुष्योना पूर्व कर्मो प्रारध्ध, तेनी वर्तमान कर्म प्रवृति , आळस, प्रमाद वगेरे भाग भजवे छे. ऐमानुं घणु बधु ऊपर वाळाना हाथमां छे. आर्थिक गरीबी ऐ साची गरीबी नथी पण जीवनमां ऐनाथी विशेष नीचे उतारनारी गरीबी, ऐटले व्यसनो, ईर्षा, ऐकबीजा वच्चे वैमनस्य, ऐक बीजाने तोडी पाडवानी वृति - आ बधी गरीब भावनाओ छे. जे मनुष्यने रंकत्व आपे छे. मनुष्य शा माटे आवो रंक - आवो पापी बने ? शा माटे कोईनी ईर्षा करीने पोताना आत्माने अभडावे ? जीवन द्रष्टिऐ नीची उतारनारी आवी नानी बाबतोमां शा माटे पडो छो ? ऐ दुषणोने जल्दीमां जल्दी काढी मूको.
             *-  पू.आई श्री सोनल मां*

संदर्भ ::- सोनल संजीवनी मांथी

3 जनवरी 2019

साक्षर समाज सेवक, सुधारक, केळवणीकार स्व.श्री पचाणभाई विश्रामभाई आलगानी पुण्यतिथि


आजे साक्षर समाज सेवक, सुधारक, केळवणीकार स्व.श्री पचाणभाई विश्रामभाई आलगानी पुण्यतिथि  लेखीत 3(त्रण) पुस्तको ई-बुक स्वरूपे  मुकवानुं नानकडू प्रयास करेल छे.

(1) आईश्री सोनल ईश्वरी
(2) कच्छ चारण परिवार
(3) पथिके रिद्धि

टुंकमां परिचय :-

साक्षर समाज सेवक, सुधारक, केळवणीकार
नाम   :- पचाण विश्राम आलगा
जन्म तारीख :- 23-05-1923
जन्म स्थळ :- विजपासर ता. नखत्राणा-कच्छ
अभ्यास :- बी.ऐ
व्यवसाय :- शिक्षक
हुलामणुं नाम :- पचाण मास्तर
स्वर्गवास :- ता.03-01-2010

9 मी पुण्यतिथि ऐ कोटि कोटि वंदन 

(1) आईश्री सोनल ईश्वरी Click Here

(2) कच्छ चारण परिवार  Click Here

(3) पथिके रिद्धि Click Here

आ पुस्तको डाउनलोड करवा माटे पुस्तकना नाम सामे जे Click Here लखेल छे तेना पर क्लिक करशो ऐटले  बुक  डाउनलोड थई  जाशे 

आ अप्राप्य पुस्तको ई-बुक बनाववा माटे आपवा बदल श्री पचाणभाई ना परिवारना श्री हरीशभाई तथा नेहाबेन नुं खूब खूब आभार मानुं छुं
चेतावणी :-
    आ  पुस्तको अप्राप्य छे ऐटले ई-बुक बनावी ने मुकेल छे आ पुस्तक मांथी काई पण उपयोग करता पहेला लेखक परिवारनी मंजूरी मेळवी ने ज उपयोग करवो अने आ पुस्तकनी प्रिंट काढी वेचाण करी शकाशे नहीं जे कोई आ शरतो भंग करशे तो कायदेसरनी कार्यवाही करवामां आवशे.
                               वंदे सोनल मातरम्

प्.पु.आई श्री सोनल मां

कोईनो उद्धार बीजुं कोई करे, ऐम हुं मानती नथी.
                     पोतानो उद्धार सौऐ पोते ज करवानो छे.
भोमियो तो मार्ग बतावे चालवानुं तो पोतेज होय छे.
                            - प्.पु.आई श्री सोनल मां

सेमिनार अहेवाल - जीवराजभाई गढवी

सेमिनार अहेवाल - जीवराजभाई गढवी

अवनवी माहिती, चारणी साहित्य , रचनाओ, ऑडियो , पुस्तक, तेमज अपना विस्तारना धार्मिक प्रसंग, समाचार  मोकली सहकार आपवा विनंती 

Email - vejandh@gmail.com

WhatsApp No - 9913051642


अवनवा समाचार, माहिती, जोब समाचार अने साथे चारणी साहित्य (जेमां काव्य,छंद, ऑडियो, बुक वगेरे....) स्वरूपे बधा सुधी पहोचे ते माटे Broadcast लीस्ट बनाववामां आवेल छे

जो तमने पण Broadcast लीस्ट मां जोडाववो मांगता होय तो आ नंबर 9913051642 सेव करी आपनुं पुरू नाम अने सरनामुं लखी मेसेज करो ऐटले टुंक समय मां ज आपने अपडेट ना मेसेज मळता थई जाशे.

आ Broadcast नो हेतु ऐटलो ज छे  वधारे चारणो सुधी माहिती पहोंचे अने उपयोगी थाय ऐ माटे आपना सहकार नी अपेक्षा छे.

खास नोंध :- आपना नंबर कोई ग्रुपमां ऐड करवामां नही आवे परंतु पर्सनल आपने मेसेज आवशे जेनी नोंध लेवा विनंती

                         सहकार बदल आपनो आभार
                               

                               वंदे सोनल मातरम

2 जनवरी 2019

सोनल माडी बेडी उतारो भव पार जी रचियता माणेकभाई पी. गढवी

सोनल माडी बेडी उतारो भव पार जी रचियता माणेकभाई पी. गढवी

मढडा संमेलन प्रथम दिवस सं-2010 अक्षय तृतीया वैशाख सुद-3 बुधवार ता.05-05-54 ना रोज आई मां नुं मंगळ प्रवचन

*मढडा संमेलन प्रथम दिवस सं-2010 अक्षय तृतीया वैशाख सुद-3 बुधवार ता.05-05-54 ना रोज आई मां नुं मंगळ प्रवचन*

    " आज अमारा अहोभाग्य के ज्ञाति गंगाना दर्शन थया. घणा दिवस नी ईच्छा हती ते आजे पूरी थई. तमे सौ तकलीफ वेठीने अहीं पधार्या, ते माटे तमारो सौनो आभार मानुं छुं. हुं अभण छुं. अने भाषण करतां आवडतुं नथी, ऐटले मारी वाणी मां कंई भूल थाय तो माफ करजो" आम कहीने आछु हस्या अने फरीने गंभीरताथी बोल्या.
    " जगत जननीनो आशीवार्द छे के चारणोनी हवे चडती थवानी छे, तेनी सौ खात्री राखे. आटली मोटी संख्यामां भेळा थया छो, ते ज्ञाति तरफना प्रेमने लईने ज ने ! *अने ज्यां आटलां बधा माणस प्रेमथी भेळा मळे, त्यां जरूर सारू ज परिणाम आवे.* तमे सौ ऐवा ठराव घडजो के जेथी ज्ञाति आगळ वधे"
   *"आगळना जमाना मां चारणो देव कहेवाता. देव ऐटले ? जेना मां दैवी शकित होय, सत्त्वगुण होय, शुद्ध आचार होय, भजन पूजन होय, ते देव. जेनामां शुभ लक्षण होय तेनुं नाम चारण "*
   " आपणामां नव लाख लोबडियाळीउ थईउ छे. ऐमना पथरा पूजाय छे. तो जीवतीऊं केम न पूजाय ? आपणे देवपण साचवीऐ तो आज पण आपणी बेनुं दिकरीउ जगदंबाउ बने. जगदंबा ऐटले ? जे विषयने आधीन न थाय ई जगदंबा ने जे विषयमां लपटाय ऐनुं नाम स्त्री."
   *" आपणे देव हता. पण अत्यारे आपणामां खोटां लक्षण आवी गयां छे, ते काढी नाखवा जोईऐ. माताजीनुं भजन स्मरण करवुं जोईऐ. गीता, रामायण, हरिरस भणवां विचारवां जोईऐ. कोई बेनुं दिकरीऊं मांगे नहि. भाई मांगवा शीख्या, तेनो चेप बेनु ने पण लागी गयो. ते बंध थावुं जोईऐ. कन्याना पैसा लेवानुं पण बंध करवु जोईऐ अने सौऐ पुरुषार्थ करवो जोईऐ. पुरूषार्थ विना आपणो उद्धार थवानो नथी. पुरूषार्थ ऐटले ज परचो. पुरूषार्थ ऐटले ज देव."*
     " बधा आश्रमो गृहस्थाश्रमने आधारे छे, ऐटले गृहस्थाश्रमने दुध जेवो मानेल छे. दूध थी जेम बधानुं पोषण थाय, ऐम गृहस्थाश्रमथी सौनुं पोषण थाय छे. *पण दूध मां जो मीठुं पडी जाय तो ? तो तेने वाड मां नाखी देवु पडे. माटे गृहस्थाश्रमने पवित्र राखवो.* ऐ बाबत मा शंकरदानजीनी ऐक कविता छे ते हुं बोलुं छुं."
         *.छंद हरि गीत.*
"संसारमां सुख पामवा, कंगालनुं दुःख कापवुं,

याचक अतिथिने यथा शक्ति, दान अन्न नुं आपवुं ;
परणी तिया  पर प्रेम राखी, उच्च करणी आदरी,
भवदधि तरवा भावथी, हरदम समरवा हर हरि... 1

उत्तम विचारोथी निरंतर, शुद्ध अंतर राखवुं,

बदकर्म थी डरवुं बहु, सतकर्म ना सेवक थवुं ;
राखी सु रीती नेक नीति, सत्य बाबत नी समज,
भजवा अजर अज अमर ऐवा, वृषभधव्ज कां गरुडधव्ज...2

निज सुख स्वारथ साधवा, दु:ख दीन ने देवुं नही,

लाखो मळे पण लोभवश, अन्याय थी लेवुं नही ;
काळे करी धन त्रिया काया, त्यागवा पडसे तदन,
(तो) समरवा सुख सदन ऐ, मर्दनमयन कां मधुसुदन....3

ऐवो वखत आवे कदी, अन्न होय ऐकज टंक नुं,

(तो) आपे करो उपवास पण, राजी करो मन रंक नुं ;
ऐवी अजायब मजा लेवा, विरर्दढ राखी वृति,
क्षण क्षण प्रति संभारवा, गिरिजापती का श्रीपति....4

नरनाथ ने घरनाथ ने, जरनाथ सर्वे जाणजो,

सद वखतमा सत्यकर्म करजो, अहंकार न आणजो ;
परहित करो कीर्ति वरो, मृतलोकमां लेवा मजो,
*'शंकर'* कवि नीति सजो, दुर्मद तजो, ईश्वर भजो..." 5

   आम कही पू. आई मां ऐ बे हाथ जोड्या, ने मस्तक नामाव्यू, जे सामे वीस हजार हाथ भेळा थया. दश हजार मस्तक नमी पड्यां. ' सोनल मात की जय ' नो घोष गर्जी उठ्यो.
टाईप :- www.charanisahity.in
संदर्भ :- पिंगळशीभाई पायक रचित मातृदर्शन मांथी पाना नंबर 377 अने 378 पर थी
टाईप मां भूलचूक होय तो सुधारी ने वांचवा विनंती छे
*ख़ास नोंध :- आ खाली जाणकारी माटे ज मातृदर्शन मांथी टाईप करेल छे क्यां पण Copyright नो भंग थयेल होय तो माफ़ करजो*
*Forward To All Friends & Groups*
     * वंदे सोनल मातरम् *

1 जनवरी 2019

चारण शकित दर्शन

चारण शकित दर्शन

पू.आई श्री सोनल मां ना प्रवचनो (पोस्ट ता.01-01-2019)

पू.आई श्री सोनल मां ना प्रवचनो (पोस्ट ता.01-01-2019)

जय माताजी
*पोष सूद -2 ऐटले सोनल बीज (08-01-2018) ऐ निमिते हवे दररोज पू.आई श्री सोनल मां ना मुखे जे प्रवचनो थयेल तेमना केटलाक अंशो आप बधा समक्ष मुकववानो नानकड़ो प्रयास करेल छे*

चारण जयां होय अने जे कोई धंधामां होय, विधार्थी होय, खेडूत होय, पशुपालक होय, मजूर होय, वेपारी होय, वकील, डॉकटर, गमे ते व्यवसायमां होय, के पेन्शन होय, गमे त्यां होय त्यां चारण जातिना स्वयं सेवक बनी जवुं जोईऐ, जातिने जो आगळ लाववी हशे, तेनुं गौरव प्रगटाववुं हशे, तो चारणे व्यसनो छोडवा ज पडशे, सादा बनवुं ज पडशे, पोतानी संपत्ति माथी यथाशकित जाति उन्नतिमा आपवुं ज पडशे तन-मन-धन थी जाति सेवा करवानां व्रत लेवा ज पडशे. आवुं करशुं अने ते पण तुरतो तरत करशुं , तो ज आपणे बीजा समाजोनी हरोळमां उभा रहेवानी पात्रता प्राप्त करी शकशुं. तो ज आपणे बीजाओने प्रेरणाना पाठ भणावी शकशुं.
                   - पू. आई श्री सोनल मां

संदर्भ ::- सोनल संजीवनी मांथी

         *वंदे सोनल मातरम्*

आईश्री सोनल युवक मंडळ बनासकांठा-पालनपुर स्नेह मिलन समारोह

आईश्री सोनल युवक मंडळ बनासकांठा-पालनपुर स्नेह मिलन समारोह
तारीख :- 13-01-2019 अने रविवार
स्थळ :-
कॄष्णामोहन छात्रालय
श्री बी.के.गढवी एज्यूकेशन संकुल
न्यू आर.टी.ओ चेक पोस्टनी बाजू मां अंबाजी हाईवे-पालनपुर(गुजरात)
निमंत्रक
आईश्री सोनल युवक मंडळ बनासकांठा-पालनपुर
संपर्क :- 9723815467


Sponsored Ads